जागरण संवाददाता, हापुड़

दीपावली और छठ पूजा पर घर जाने वाले यात्रियों को बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि लंबी दूरी की ट्रेनों में सीट सब फुल हो चुकी हैं। उन्हें घर जाने के लिए ट्रेनों में कंफर्म रिजर्वेशन टिकट नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में अब यात्री तत्काल टिकट बुक कराने की आस में बैठे हैं। इसके अलावा यात्री स्पेशल ट्रेनों के संचालन का भी इंतजार कर रहे हैं।

पहले ट्रेनों में दो माह पहले तक रिजर्वेशन करा सकते थे। लेकिन, अब रेलवे ने इस नियम को संशोधित कर चार माह पहले तक टिकट बुक कराने की अनुमति दे दी है। ऐसे में दूर-दराज रहने वाले लोगों ने पहले ही घर जाने के लिए अपने टिकट बुक करा दिए थे। जिसके कारण अब ट्रेनों में यात्रियों के रिजर्वेशन कंफर्म नहीं हो पा रहा है। वर्तमान स्थिति यह है कि अधिकांश ट्रेनों में लंबी वेटिग लिस्ट आ रहा है। वेटिग लिस्ट 100 से 150 तक पहुंच रही है।

यात्री सीट कंफर्म होने की आस में वेटिग का टिकट भी खरीद रहे हैं। सबसे अधिक वेटिग लिस्ट लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज, बिहार रूट पर चलने वाली ट्रेनों में है। इन रूट की अधिकांश ट्रेनों में दीपावली के आस-पास की तिथि की लंबी वेटिग चल रही है। लखनऊ मेल, सत्याग्रह, पद्मावत एक्सप्रेस समेत अधिकांश ट्रेनों में लंबी वेटिग चल रही है। ऐसे में कुछ यात्री टिकट बुक कराने में हिचकिचा भी रहे हैं। यदि यात्रियों के लिए त्योहार विशेष ट्रेनों का संचालन नहीं होता है तो उनकी परेशानी अधिक बढ़ सकती है।

-----

कंफर्म टिकट पर कर सकेंगे सफर

रेलवे ने कोरोना संक्रमण संक्रमण के बाद से नियमों में काफी सख्ती कर दी है। अब यात्री ट्रेनों में तब तक सफर नहीं कर सकते हैं जब तक उनका रिजर्वेशन कंफर्म नहीं होगा। टीटीई वेटिग टिकट वालों को ट्रेन में यात्रा करने की अनुमति नहीं देंगे।

-----

बसों में करना पड़ सकता है सफर

जिन यात्रियों के रिजर्वेशन कंफर्म नहीं हो सकेंगे उन्हें बसों का सहारा लेकर उनमें सफर कर अपने घरों के लिए रवाना होना पड़ेगा। ऐसे में लोग लंबी दूरी की बसों में सफर करने के लिए टिकट भी बुक कर रहे हैं।

-----

क्या कहते हैं स्टेशन अधीक्षक

फिलहाल त्योहार स्पेशल ट्रेनों का स्टापेज रेलवे स्टेशन को नहीं मिला है। यदि स्टापेज मिलता है तो यात्रियों के लिए स्टेशन पर अनाउंसमेंट कराया जाएगा। यात्रियों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होने दी जाएगी।

- अजब सिंह, स्टेशन अधीक्षक

Edited By: Jagran