जागरण संवाददाता, हापुड़ : देहात थाना क्षेत्र के एक मोहल्ले में डेयरी संचालक के घर में लूटपाट, किशोरी की दुष्कर्म के बाद हत्या और किशोरी के भाई की हत्या का प्रयास किए जाने के मामले का पुलिस ने मंगलवार को पर्दाफाश कर दिया। पुलिस के अनुसार इस जघन्य कांड का षड्यंत्र पड़ोस में ही दूध की डेयरी के संचालक ने रचा था। मंगलवार को पुलिस ने फरार सोनू और पड़ोसी को गिरफ्तार कर लूटी गई नकदी तथा आभूषण बरामद कर लिए। हालांकि इस मामले में पुलिस ने पत्रकारों को औपचारिक रूप से जानकारी नहीं दी। पुलिस द्वारा नगर में हुए इस बेहद सनसनीखेज मामले के आरोपित की गिरफ्तारी और घटनाक्रम की जानकारी देने के लिए प्रेस कांफ्रेस आयोजित नहीं करना चर्चा का विषय है।

पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने बताया कि सात दिन पूर्व नगर के एक डेयरी संचालक के घर में दिनदहाड़े कुछ बदमाशों ने लूटपाट की। विरोध करने पर बदमाशों ने डेयरी संचालक की 12 वर्षीया पुत्री की दुष्कर्म करने के बाद हत्या कर दी और उसके सात वर्षीय पुत्र की भी हत्या करने का प्रयास किया।

इस मामले में पीड़ित डेयरी संचालक ने अपने दो घरेलू सहायकों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराया था। इसके बाद पुलिस की दो टीमों को आरोपितों की तलाश में लगाया गया। हालांकि पुलिस द्वारा एक आरोपित इंद्रगढ़ी निवासी अंकुर तेली को घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया था। इस मामले में जांच के दौरान नबी करीम निवासी सोनू उर्फ पउवा और मोहल्ला फूलगढ़ी निवासी अमरजीत उर्फ कलुवा के नाम प्रकाश में आए थे।

मंगलवार को सूचना मिली कि सोनू उर्फ पउवा अपने साथी अमरजीत के साथ कहीं जाने की फिराक में है। इस सूचना पर पुलिस टीम ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार आरोपितों ने पूछताछ करने पर सोनू ने बताया कि इस मामले में शामिल अमरजीत की भी पीड़ित की डेयरी के निकट ही दूध की डेयरी है। रक्षाबंधन के दिन अमरजीत और मृतका के पिता में दूध को लेकर कहासुनी हो गई थी। इसके बाद शाम को अमरजीत ने अंकुर तेली और सोनू को बुलाकर मृतका के पिता को मारने की योजना बनाई थी। इसी योजना के अंतर्गत घटना वाले दिन वह और उसका साथी अमरजीत के साथ पीड़ित डेयरी संचालक के घर पहुंच गए, लेकिन वह घर पर मौजूद नहीं था। इसके बाद सोनू ने घर में रखे जेवरात और नकदी लूटने का प्रयास किया। इस दौरान पीड़ित की पुत्री वहां आ गई। इसके बाद किशोरी के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी गई। बहन को बचाने के लिए आए बालक को भी मारने की नीयत से उसकी गर्दन पर चाकू से वार किया गया। गिरफ्तार सोनू और अमरजीत की निशानदेही पर उसके घर से लूटे गए आभूषण और 310 रुपये बरामद हुए हैं।

--------------- - जघन्य कांड का पर्दाफाश करने में भी मीडिया से बनाई दूरी

इस मामले का देर शाम पर्दाफाश होने के बाद नगर में चर्चा है कि आखिर पुलिस ने इस सनसनीखेज मामले का पर्दाफाश करने के लिए प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन क्यों नहीं किया। हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना था कि इस घटना को लेकर कोई पशोपेश नहीं है। घटना में जो आरोपित शामिल थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपितों से पूछताछ के दौरान कोई अन्य नाम जानकारी में आएगा, तो उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा।

-------------- - आरोपित ने बहन के घर छिपाया था लूटा गया सामान

पुलिस अधिकारियों की मानें तो नबी करीम निवासी सोनू उर्फ पउवा ने डेयरी संचालक के घर से लूटा गया सामान अपनी बहन के घर छिपा दिया था। जांच करने के दौरान पता लगा कि सोनू की इकलौती बहन की शादी दिल्ली में हुई है। पुलिस ने वहां दबिश देकर लूटा गया माल बरामद कर लिया।

------------- - तीन माह से रची जा रही थी साजिश

पुलिस के अनुसार इस पूरे घटनाक्रम की साजिश पिछले तीन महीनों से रची जा रही थी। रक्षाबंधन के दिन पड़ोसी डेयरी संचालक ने अंकुर और सोनू को शराब पिलाई और उसकी और उसकी पत्नी की हत्या करने की योजना की जानकारी दी थी। इस बात की जानकारी आरोपितों ने पुलिस द्वारा उनके समक्ष की गई पूछताछ में स्वीकार किया है।

Posted By: Jagran