संजीव वर्मा, हापुड़ :

इंतजार की घड़ियां की खत्म हो गई है। मेरठ-बुलंदशहर हाईवे (एनएच 334 पूर्व में एनएच 235) पर मेरठ से हापुड़ तक वाहनों ने फर्राटा भरना शुरू कर दिया हैं। मेरठ से हापुड़ तक 32 किमी हाईवे पर एक भी यूटर्न नहीं है। फोरलेन के इस हाईवे पर वाहन 120 से 140 की रफ्तार से दौड़ रहे हैं। हालांकि अभी बुलंदशहर का सफर बिना रुके तय करने में समय लगेगा। 31 जुलाई तक निर्माण कार्य संपन्न होने की संभावना जताई जा रही है।

बता दें कि लगभग 64 किमी लंबे मेरठ-बुलंदशहर हाईवे को फोरलेन का शिलान्यास सितंबर 2016 में केंद्रीय सड़क परिवहन नितिन गडकरी ने बुलंदशहर जनपद में किया था। 886 करोड़ की लागत से हाईवे का निर्माण चल रहा है। हापुड़ से मेरठ के बीच 32 किमी तक निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। हापुड़ से मेरठ के बीच फंफूडा, खरखौदा और कैली में तीन बाइपास दिए हैं। इसके अतिरिक्त ददायरा में रेलवे क्रॉसिग पर ओवरब्रिज का निर्माण हुआ है। प्रस्तावित योजना के अंतर्गत गुलावठी के निकट टोल प्लाजा बनाया जाना है। टोल प्लाजा का निर्माण तेजी से चल रहा है। 80 फीसद से अधिक से निर्माण पूर्ण हो चुका हैं। 15 जुलाई तक टोल प्लाजा शुरू होने की संभावना है। हालांकि हाईवे का संपूर्ण निर्माण कार्य 31 जुलाई तक संपन्न होगा।

------

हापुड़ के जाम पर पड़ेगा असर

मेरठ से बुलंदशहर हाईवे के शुरू होने पर नगर के तहसील चौराहे जाम से मुक्त हो सकेंगे। बुलंदशहर और दिल्ली की ओर से आने वाले भारी वाहन अभी आंबेडकर तिराहे से होकर गुजरते हैं, लेकिन हाईवे शुरू होने के बाद उन्हें बाइपास से ततारपुर की ओर डायवर्ट कर मेरठ रोड पर भेजा जाएगा। नगर के हल्के मोटर वाहन भी ततारपुर बाइपास से मेरठ की ओर जा सकेंगे। इससे तहसील चौराहा और आंबेडकर तिराहे पर वाहनों का दबाव कम हो जाएगा।

-------

तेजी से चल रहा सुंदरीकरण का कार्य

- निर्माणाधीन हाईवे पर हापुड़ से मेरठ की तरफ सुंदरीकरण का कार्य तेजी चल रहा है। बुलंदशहर रोड पर बनाए गए गोल चक्कर पर पेंटिग का कार्य चल रहा है। इसके अतिरिक्त प्रकाश व्यवस्था बेहतर करने के लिए फैंसी लाइट लगाई जा चुकी हैं। पौधरोपण का भी कार्य चल रहा है।

--------

क्या कहते हैं एनएचएआइ के अधिकारी :

मेरठ से हापुड़ तक का निर्माण कार्य संपन्न हो चुका है। सुंदरीकरण का काम तेजी चल रहा है। 31 जुलाई तक हाईवे का संपूर्ण निर्माण कार्य संपन्न कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त टोल प्लाजा 15 जुलाई तक शुरू करने की दिशा में कार्य चल रहा है।

- डीके चतुर्वेदी, परियोजना निदेशक एनएचएआइ

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021