संवाद सहयोगी, पिलखुवा :

आजादी के अमृत महोत्सव को धूमधाम से मनाने और जनता से जुड़ी योजनाओं को लेकर केंद्र और प्रदेश सरकार ने विभिन्न कार्यक्रमों की शुरुआत की थी, जिसमें अमृत सरोवरों का निर्माण महत्वपूर्ण योजनाओं में शामिल है। इस बार सरकार की मंशा है कि नवनिर्मित अमृत सरोवर पर ध्वजारोहण होना चाहिए, साथ देशभक्ति से ओत-प्रोत कार्यक्रम होंगे, लेकिन अधिकारियों की अनदेखी के चलते मंशा पूरी होती दिखाई नहीं दे रही है। ध्वजारोहण की तो सरोवरों पर तैयारी है, लेकिन सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सरोवर का स्वरूप अभी ग्रामीणों ने दिखाई नहीं देगा। क्योंकि लगभग सभी अमृत सरोवरों पर निर्माण कार्य अभी अधूरा है।

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत अमृत सरोवरों का निर्माण कराया जा रहा है। योजना के तहत स्वतंत्रता दिवस का ध्वजारोहण कार्यक्रम अमृत सरोवरों के तट पर ही कराया जाना है। धौलाना ब्लाक स्तर पर पहले में राउंड 17 अमृत सरोवर तैयार करने का लक्ष्य रखा गया था। जो 15 अगस्त से पहले तैयार होने थे। सरोवर में स्वच्छ पानी के साथ लोगों की बैठने की व्यवस्था, पौधारोपण कार्य, सुंदरीकरण कार्य होने थे। लेकिन, अमृत सरोवरों का निर्माण का लक्ष्य अभी तक कई स्थानों पर पूरा नहीं हो पाया है।

गांव दहीरपुर रज्जाकपुर में अमृत सरोवर का कार्य अभी भी चल रहा है। ध्वजारोहण के लिए तट पर स्टैंड बनाया जा रहा है। जिसके लिए तेजी से कार्य चल रहा है। ग्रामीण बताते हैं कि उन्हें बेहद खुशी थी कि इस बार उनके गांव में ध्वजारोहण के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे, लेकिन सरोवर का कार्य अधूरा होने के कारण अब नहीं लगता है कि सांस्कृतिक कार्यक्रम हो पाएंगे। केवल ध्वजारोहण कार्यक्रम ही हो पाएगा।

ग्राम खेड़ा तिसौली में भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। ऐसे में ध्वजारोहण कार्यक्रम अमृत सरोवर पर होना मुश्किल लग रहा है। पिछले इस स्थान पर काम करने वाले मनरेगा कामगारों ने मजदूरी नहीं मिलने के चलते हंगामा भी किया गया था। सोमवार को ध्वजारोहण के लिए चबूतरा तैयार कर दिया गया है। खंड विकास अधिकारी अभिमन्यु सेठ ने बताया कि शुरुआत में 17 अमृत सरोवर के निर्माण का लक्ष्य रखा गया था। इनमें से 15 सरोवर तैयार हो चुके है और तैयार अमृत सरोवर पर ध्वजारोहण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

Edited By: Jagran