जागरण संवाददाता, हापुड़ : मूसलधार बारिश ने मंगलवार को शहर की नालों की सफाई व्यवस्था और निकासी की पोल खोल दी। शहर के सभी मुख्य मार्गों, बाजारों में कई-कई फीट तक जलभराव हुआ। दर्जनों मोहल्लों और दुकानों में पानी भरने से लोगों को लाखों रुपये का आर्थिक नुकसान भी हुआ है। नगर पालिका परिसर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समेत अनेक सरकारी कार्यालयों में भी जलभराव से दिक्कत हुई। वहीं, शहरवासियों में सफाई के नाम पर हो रही लीपापोती को लेकर रोष भी व्याप्त है।

नगर पालिका दावा करती है कि प्रतिदिन शहर के नालों की सफाई होती है, लेकिन मंगलवार को बरसात के बाद लोगों द्वारा आए दिन सफाई को लेकर होने वाली शिकायतों में सच साफ दिखाई देने लगा। दोपहर चार बजे जोरदार बारिश शुरू जो एक घंटे से अधिक देर तक पहुंची। आलम यह था बारिश के कारण रेलवे रोड, गोल मार्केट, त्यागी नगर, अर्जुन नगर, रघुवीर गंज, आर्य नगर, पन्नापुरी, रफीक नगर, कोठी गेट, आवास विकास कालोनी, गौशाला, मोदी अस्पताल, शिवपुरी, श्रीनगर, प्रेमपुरा समेत अनेक कालोनियों में भीषण जलभराव हो गया। शहर के प्रमुख अतरपुरा चौपला पर भी जलभराव होने से लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा। गोल मार्केट में खरीदारी करने के लिए आई महिलाएं और युवतियों को बारिश के कारण काफी दिक्कत हुई। जलभराव से होकर किसी तरह वह अपने घरों को पहुंची। कई मोहल्लों में घरों में जलभराव हो गया था। कई गांवों में भी जलभराव हो गया। दिल्ली रोड पर नाले में दीवार गिरने से जलनिकासी बाधित हो गई थी। पालिका टीम ने जेसीबी मशीन की मदद से मलवे को नाले से निकलवाया।

----

- किसानों को लाखों का नुकसान -

मंगलवार को हुई झमाझम बरसात से धान उत्पादक किसानों की ¨चताएं बढ़ गई। धान की फसल पर बाली आ चुकी है, ऐसे में बरसात के साथ हवा चलने से फसल जमीन पर गिर गई और खेतों में जलभराव हो गया। इसके चलते लाखों रुपये के नुकसान की संभावना है। वहीं, गन्ने की फसल भी कई स्थानों पर गिर गई है। धान किसान बारिश को लेकर काफी परेशान हैं। किसान नरेंद्र सहवाग ने प्रशासनिक अधिकारियों से खेतों का सर्वे कराकर फसल के नुकसान का आंकलन कराकर मुआवजा दिलाने की मांग की है।

---

अधिकारी कहिन --

बरसात अधिक होने के कारण जलभराव हुआ था। नालों की प्रतिदिन सफाई होती है, इसलिए पानी अधिक देर तक नहीं रहा। बुधवार को नालों की सफाई का कार्य फिर से कराया जाएगा। शहरवासियों की दिक्कतों का ध्यान रखा जाएगा। दिल्ली रोड पर दीवार टूटकर नाले में गिर गई थी, इस कारण भी जलभराव हुआ था।

जितेंद्र कुमार आनंद, अधिशासी अधिकारी

Posted By: Jagran