संवाद सहयोगी, पिलखुवा:

भाजपा के डासना मंडल अध्यक्ष डॉ. बलवीर सिंह तोमर उर्फ बीएस तोमर की हत्या के बाद रविवार को उनका गांव सिखेड़ा पुलिस छावनी बन गया। अपर पुलिस अधीक्षक और उपजिलाधिकारी सहित उच्च अधिकारियों ने शव का अंतिम संस्कार होने तक मौके पर डेरा डाले रखा। केंद्रीय राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह सहित कई भाजपा नेताओं ने मृतक के घर पहुंचकर परिवार को सांत्वना दी और उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए। इस दौरान परिवार के सदस्यों और ग्रामीणों ने एक करोड़ रुपये और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिलाने की मांग कर हंगामा किया। इस कारण लगभग पांच घंटे तक अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। बाद में केंद्रीय राज्यमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री से बातचीत कर मदद दिलाने का आश्वासन देने पर ग्रामीण शांत हुए।

भाजपा नेता बीएस तोमर मूलरूप से पिलखुवा कोतवाली के अंतर्गत स्थित ग्राम सिखेड़ा के निवासी थे। भाजपा के डासना मंडल अध्यक्ष होने के साथ ही उनका डासना में स्थित दूधिया पीपल में क्लीनिक है। शनिवार को क्लीनिक बंद करने के बाद वह क्लीनिक के सामने स्थित पान की दुकान पर सिगरेट लेने गए थे। तभी उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। पोस्टमार्टम के बाद रविवार सुबह करीब आठ बजे उनका शव गांव में पहुंचा। शव देखकर ग्रामीण बिफर गए। ग्रामीणों ने एक करोड़ की आर्थिक मदद और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की। आक्रोशित ग्रामीणों ने शव को राष्ट्रीय राजमार्ग पर रखकर जाम लगाने की चेतावनी भी दी। केंद्रीय राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह के आश्वासन के बाद लगभग बारह बजे शव का अंतिम संस्कार किया जा सका। अंतिम संस्कार होने के बाद पुलिस और प्रशासन ने राहत की सांस ली। इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक सर्वेश कुमार मिश्रा, उपजिलाधिकारी विशाल यादव सहित उच्च अधिकारियों ने पुलिस बल के साथ गांव में ही मौजूद रहे। इस अवसर पर पूर्व विधायक धर्मेश तोमर, जिला मंत्री नरेश तोमर, जिला उपाध्यक्ष विनय अग्रवाल, राकेश चौधरी, अजीत तोमर, वाईपी सिंह, विपिन मित्तल जिप्पी, सचिन पुंडीर, चमन लाल, अखिलेश मित्तल आदि ने मृतक के परिवार को सांत्वना दी।

--------- -परिवार में मचा कोहराम

मृतक बीएस तोमर छह भाइयों में पांचवें नंबर पर थे। उनके बड़े भाई सत्यपाल तोमर पिलखुवा के साकेत में स्थित सरदार पटेल जूनियर हाईस्कूल में शिक्षक है। सागर सिंह किसान, देवेंद्र सिंह चिकित्सक, पदम सिंह एयर फोर्स से सेवानिवृत्त और सबसे छोटे उमेश तोमर इंजीनियर हैं। उनके इकलौते पुत्र अनुज की दो साल पहले मृत्यु हो गई थी। तीन पुत्रियों में रुबी और पूजा का विवाह हो चुका है। आरती के विवाह की तैयारियां चल रही थी। उनकी मृत्यु के बाद उनकी पत्नी सुधा तोमर का रो-रोकर बुरा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप