जागरण संवाददाता, हमीरपुर : जिला कारागार के बाहर शिव मंदिर के पास प्रधान महिला बंदी रक्षक ने अपने पति और बेटे के साथ मिलकर सिपाही को पीटकर सिर फोड़ दिया। आरोप है कि सिपाही कारागार में उसे बुरा-भला कहता है और उसने मंदिर से पूजा अर्चना कर घर जाते वक्त उससे छेड़खानी की। जानकारी मिलते ही जेलर ने सिपाही को सदर अस्पताल में भर्ती कराया। बंदी रक्षक ने सिपाही के खिलाफ तहरीर दी है।

जिला कारागार में तैनात प्रधान महिला बंदी रक्षक ने कोतवाली में दी तहरीर में बताया कि जेल में तैनात सिपाही आशीष कुमार आए दिन उससे गाली गलौज करता है। शनिवार शाम वह जिला कारागार के बाहर शिव मंदिर में पूजा कर वापस जा रही थी, इसी बीच ड्यूटी कर वापस आ रहे आशीष ने उसे पीछे से पकड़ लिया। उसके साथ छेड़खानी करने लगा। शोर सुनकर उनके पति उसे बचाने पहुंचे। इस पर सिपाही ने उनसे भी मारपीट की।

इधर, मारपीट की जानकारी मिलते ही प्रभारी जेल अधीक्षक एडीएम विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने अस्पताल पहुंचकर घटना की जानकारी ली। कोतवाल पीके सिंह ने बताया कि महिला बंदी रक्षक की ओर से तहरीर मिल गई है। जांच कर कार्रवाई की जाएगी। घात लगाकर बंदी रक्षक ने पति-बेटे के साथ पीटा

घायल सिपाही आशीष कुमार का कहना है कि महिला बंदी रक्षक उसे हमेशा उल्टा सीधा कहती रहती है। शनिवार रात करीब आठ बजे जेल बंद होने के बाद वह अपने कमरे में जाने लगा, तभी पहले से घात लगाए महिला बंदी रक्षक व उसके पति-बेटों ने उसे घेरकर पीटना शुरू कर दिया। वह भागा तो उसे दौड़ाकर गिरा लिया और उसके सिर में ईट-पत्थर मारकर सिर फोड़ दिया। शोर शराबा सुनकर जब वह बाहर आए तो देखा कि सिपाही लहूलुहान पड़ा था। घटना का कारण अभी पूरी तरह स्पष्ट नही है। मामले की जांच कर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

- प्रमोद कुमार त्रिपाठी, जेलर, जिला कारागार, हमीरपुर

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस