जागरण संवाददाता, हमीरपुर : जिला अस्पताल में तैनात एक चिकित्सक के ऊपर वृद्ध महिला के पुत्र ने रुपये लेने का आरोप लगाते हुए कहा है कि उसकी मां कई दिनों से बीमार चल रही थी। जिसे दिखाने के लिए वह अस्पताल गया था। जब उसने भर्ती करने को कहा तो उससे दो हजार रुपये की मांग की गई। लेकिन जब उसने देने से मना कर दिया तो डाक्टर ने महिला का इलाज कानपुर में कराने की बात कहते हुए उसको रेफर कर दिया।

विकास खंड सुमेरपुर के ग्राम बड़ा कछार निवासी खुशीराम पुत्र रामआसरे ने बताया कि उसकी मां कलावती (70) बीते कई दिनों से बीमार चल रही हैं। जिसकी मंगलवार को हालत ज्यादा बिगड़ गई। आनन फानन वह अपनी मां को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाने के लिए एंबुलेंस को सूचना दी। लेकिन गांव का रास्ता खराब होने के कारण गांव तक एंबुलेंस नही पहुंच सकी। जिसके चलते उसने बैलगाड़ी के सहारे अपनी बूढ़ी मां को लेकर जिला अस्पताल पहुंचा और अस्पताल में फिजीशियन के पास पहुंचा। हालत नाजुक देखते हुए खुशीराम ने डाक्टर से अपनी मां को भर्ती करने की बात कही। जिस पर डाक्टर ने उससे दो हजार रुपये की मांग की। जिस पर उसने रुपये न होने की बात कहते हुए भर्ती कर इलाज करने की आरजू मिन्नत की। लेकिन डाक्टर ने उसकी एक न सुनी और हालत ज्यादा नाजुक बताते हुए उसे कानपुर के लिए रेफर कर दिया। मां की हालत नाजुक देख मजबूरी में बेटा उसे लेकर कानपुर के लिए रवाना हो गया। इस संबंध में पुरुष अस्पताल के सीएमएस डा. आरके शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यदि इस तरह की कोई बात है तो वह इसकी जांच कराएंगे और दोषी होने पर चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran