जागरण संवाददाता, महोबा : फर्रुखाबाद में नर्सिंगहोम के ऑपरेशन थियेटर में घुसकर कुत्ते ने नवजात को नोंच कर मार डाला। हृदयविदारक घटना के बाद भी यहां के जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं में सुधार की जरूरत नहीं समझी जा रही है। लापरवाही का आलम ये है कि अस्पताल के पुरुष ओटी (ऑपरेशन थिएटर) का दरवाजा खुला रहता है और कोई भी बिना रोक टोक के आ जा सकता है।

जिला अस्पताल अपनी अव्यवस्थाओं के लिए हमेशा सुर्खियों में बना रहता है। हाल ही में फर्रुखाबाद की घटना के बाद भी जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं में कोई सुधार नहीं किया गया और न ही काई एहतियात बरता गया। बुधवार को जिला अस्पताल की दूसरी मंजिल पर बने पुरुष ओटी का मुख्य द्वारा खुला मिला, और अंदर जाने के बाद एक और गेट खुला था। इतना ही नहीं ओटी का भी गेट भी बंद नहीं था। इंसान या कुत्ता कोई भी ओटी के अंदर जा सकता है। यहां न तो कोई कर्मचारी गेट पर तैनात किया गया है और न ही कोई किसी को रोक रहा था। फर्रुखाबाद की दिल दहला देने वाली घटना के बाद भी जिला अस्पताल में कोई सुधार होता नहीं दिख रहा है। अस्पताल में कोई भी कर्मी ड्रेस कोड में नहीं रहता है। इससे पता ही नहीं चलता कि कौन अस्पताल का कर्मचारी है और कौन तीमारदार। जब जिला अस्पताल का ओटी ही सुरक्षित नहीं है तो यहां के मरीज कैसे सुरक्षित होंगे। ओटी में काम का समय निर्धारित है। दरवाजे बंद रहते हैं। सबसे अंदर जहां आपरेशन होता है वहां किसी अन्य का प्रवेश नहीं है। अस्पताल में सुरक्षा इंतजाम ठीक हैं। डॉ. आरपी मिश्र, सीएमएस जिला अस्पताल

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस