हमीरपुर, जागरण संवाददाता। फारेस्ट विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर साइबर ठगी का शिकार हुए युवक की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। आरोपितों के पास से पुलिस ने कार व 80 हजार रुपये समेत अभिलेख बरामद किए हैं।

मौदहा कोतवाली क्षेत्र के मदारपुर निवासी पीड़ित से अंतर्राज्यीय गिरोह ने दो लाख 94 हजार 300 रुपये ठग लिए थे। गिरोह में शामिल सदस्यों द्वारा अब तक सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 15 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी की है। वह युवकों को अपने झांसे में ले उनसे रुपये व कागजात जमा कराने के बाद फर्जी ज्वाइनिंग लेटर दे उन्हें ट्रेनिंग पर भी बुलाते थे।

एसपी शुभम पटेल ने बताया कि मौदहा कोतवाली के मदारपुर निवासी शहबाज खान पुत्र मोहसिन ने फारेस्ट विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर इंतजार खान पुत्र वहाब खान निवासी मधिया थाना मुगलसराय जिला चंदौली व उसके गिरोह द्वारा दो लाख 94 हजार 300 रुपये की साइबर ठगी करने संबंधी प्रार्थना पत्र मौदहा कोतवाली में दिया था। जिस पर मुकदमा दर्ज किए जाने के बाद टीमें गठित कर मामले का पर्दाफाश करने के निर्देश दिए गए।

मौदहा व साइबर क्राइम पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए नरायच के पास हाईवे पर ठगी करने वाले गिरोह के तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इसमें इंतजार खान के अलावा अंकित पुत्र अरुणोदय त्रिपाठी निवासी लच्छीपुर थाना मल्लावां जनपद हरदोई व सूरज कुमार पुत्र महेश कुमार निवासी हरथला काठ रोड सोनकपुर थाना सिविल लाइन जिला मुदाराबाद शामिल हैं। सूरज के बैंक स्टेटमेंट के आधार पर 10 करोड़ 30 लाख रुपये व अंकित के खाते से चार करोड़ रुपये का साइबर ट्रांजेक्शन पाया गया।

Edited By: Alok Umrao

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट