हमीरपुर (जेएनएन)। मौदहा कस्बे में ऐतिहासिक कंस वध मेले की शोभायात्रा निकालने को लेकर दो पक्षों में चल रहे विवाद ने मंगलवार शाम को बड़े उपद्रव का रूप ले लिया। भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया तो पुलिस ने जमकर लाठियां भांजीं। आंसू गैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग की। पथराव और भगदड़ में एएसपी लाल साहब यादव, पुलिस-मीडियाकर्मियों सहित दर्जनों लोग घायल हो गए। एक घायल को गंभीर हालत में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है। क्षेत्र में अघोषित कर्फ्य जैसा माहौल है।

ऐतिहासिक कंस वध मेला 

डेढ़ सौ वर्ष पुराना ऐतिहासिक कंस वध मेला सोमवार को पूर्णिमा के दिन होना था। मेला आयोजकों ने दर्जनों झांकियां सजाईं और गाजे-बाजे के साथ शोभायात्रा लेकर परंपरागत ढंग से कस्बे के गुड़ाही बाजार पहुंचे। यहां से यह शोभायात्रा थाना चौराहा से होते हुए मीरा तालाब की ओर जानी थी। देवी चौराहा पास मौजूद एक पक्ष के लोगों ने अलाव मैदान से शोभायात्रा निकालने का विरोध कर दिया। इसको लेकर तनातनी की स्थिति बन गई।

एएसपी की कलाई टूटी

पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत मंगलवार को सांसद अशोक चंदेल समेत दर्जनों भाजपा नेता कस्बे में एकत्र हो गए। प्रशासन ने विवादित स्थल के आसपास पुलिस तैनात कर बैरीकेडिंग करा दी जहां दोनों पक्षों के लोग फिर एकत्र हो गए। शाम पांच बजे शोभायात्रा निकली तो प्रशासन ने रोक दिया। इसी बीच भीड़ में से कुछ लोगों ने पथराव शुरू कर दिया जिससे भगदड़ मच गई। जवाब में पुलिस ने भी पथराव कर लाठियां चलाईं। स्थिति काबू में न आते देख आंसू गैस के गोले दागकर हवाई फायरिंग की तब जाकर उपद्रवी भागे। इस संघर्ष में एएसपी की कलाई के पास फ्रेक्चर हो गया। 

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस