जागरण संवाददाता, हमीरपुर : नगर पालिका की ओर से रविवार को सड़कों में घूम रहे अन्ना मवेशियों की धरपकड़ का अभियान चलाया गया। यहां टीम ने कैटल कैचर के माध्यम से सभी अन्ना मवेशियों को पकड़कर सूरजपुर स्थित गोशाला में बंद किया गया। इसके साथ ही अभियान के दौरान अपने मवेशी को लेने आए लोगों को टैगिग करा मवेशी सौंपे गए। साथ ही दोबारा मवेशी छोड़ने पर जुर्माना लगाए जाने की चेतावनी भी दी।

रविवार सुबह से ही नगर पालिका टीम अन्ना जानवरों को पकड़ने के लिए जुटी नजर आई। 12 से अधिक पालिका कर्मी मवेशियों को बांधने के लिए हाथों में रस्सी लेकर उनके पीछे घूमते नजर आए। बामुश्किल कड़ी मशक्कत के बाद उन्होंने जानवरों को मुख्यालय के लोक निर्माण विभाग परिसर में एकत्र किया और उसके बाद कैटल कैचर के माध्यम से उन्हे सूरजपुर गांव स्थित गोशाला में बंद किया। चेयरमैन कुलदीप निषाद ने बताया कि इस अभियान के क्रम में रविवार को कुल 50 अन्ना मवेशियों को गोशाला में बंद किया गया है। साथ ही तीन मवेशियों की पशुपालन विभाग के द्वारा टैगिग की गई। जिन्हें मवेशी मालिकों को सौंपा गया है। अभियान में पशु चिकित्साधिकारी डॉ. बृजेंद्र सिंह, पशुधन प्रसार अधिकारी सदर वीरेंद्र शुक्ला टीम के साथ मौजूद रहे। गायों को अन्ना छोड़ने वालों पर ठोका जाएगा जुर्माना

चेयरमैन कुलदीप निषाद ने बताया कि नगर पालिका क्षेत्र का कोई भी व्यक्ति यदि मवेशी को अन्ना छोड़ेगा तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कहा, मवेशी को अन्ना छोड़ने वाले व्यक्ति पर पांच हजार रुपए का जुर्माना व मुकदमा भी दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने अपील की है कि सभी लोग अपने मवेशी व जानवरों को बांध कर रखे। ताकि किसानों की फसल बर्बाद न हो।