जागरण संवाददाता, हमीरपुर : कस्बे के दर्जनों लोगों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट आकर एसडीएम सदर अजीत परेश से मिलकर अपने मकानों को नगर पंचायत में दर्ज कराने की मांग की है। कस्बावासियों का कहना है कि वह लगातार गृहकर जमा कर रहे हैं लेकिन उनके मकानों को आज तक दर्ज नहीं किया गया है।

कस्बा निवासी गंगाचरन, राधेश्याम, घनश्याम, सूरज कुंवर, प्रभू, प्रेमचंद्र, रामाधीन, राजेंद्र, सुमनलाल, शांति, दयाशंकर, रामप्रकाश, छिद्दू, गोमती, मन्ना, राम अवतरा, दयाशंकर, सतीचरन, रामकिशुन, कल्लू व रामआसरे ने एसडीएम सदर से मिलकर अपने मकानों को नगर पंचायत में दर्ज कराने की मांग की है। एसडीएम को बताया कि वह 35 वर्षों से मकान बनाकर कस्बे में रह रहे हैं। जिनका गृहकर भी उनके द्वारा जमा किया जा रहा है। मकान टैक्स 1980 से 1995 में निरस्त कर दिया गया था। 2012 से 2017 में नगर अध्यक्ष माया बाल्मीकि के कार्यकाल में फिर से उनके मकानों को दर्ज किया गया था। जिससे प्रधानमंत्री आवास योजना में उनका नाम सूची में आ गया। जिससे टाउन एरिया के अधिकारी द्वारा उनके मकानों को निरस्त कर दिया गया। किसी भी योजना का उन्हें लाभ नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि उनके मकानों को दर्ज किया जाए तथा भू स्वामित्व प्रमाण पत्र भी बनवाए जाएं। एसडीएम ने कस्बा वासियों को आश्वासन देते हुए जांच की बात कही है।

Posted By: Jagran