जागरण संवाददाता, हमीरपुर : वायु प्रदूषण रोकने को एनजीटी के आदेश के बाद हरकत में आए जिला प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया है। जिलाधिकारी के आदेश पर अलग अलग टीमें बना निरीक्षण कर पराली जलाने वाले किसानों पर कार्रवाई की गई। बुधवार को सदर तहसीलदार राघवेंद्र शर्मा कानूनगो राहुल यादव व जिला कृषि अधिकारी डा. सरस कुमार तिवारी व अनूप कुमार द्वारा कुरारा क्षेत्र का निरीक्षण किया गया। जहां चार गांवों में कही खेतों में आग जलती पाई गई तो कही फसल अवशेष जलाने के निशान पाए गए। जिस पर टीम ने गांव के किसानों को पराली न जलाने को कहा गया। साथ ही उन्हें इससे बनने वाली खाद के बारे में बताते हुए जागरूक किया। तहसीलदार ने बताया कि कुरारा क्षेत्र के कुल 15 किसानों के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है। जिसमें बरुआ का एक, कुतुबपुर के छह, खरौंज के सात व सरसई गांव का एक किसान शामिल है। बताया कि नोटिस का जवाब मिलने पर शासनादेश के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं इस कार्रवाई से पराली जलाने वाले किसानों में हड़कंप मचा है।

पराली जलाने से प्रदूषण बढ़ा, टीम गठित

भरुआ सुमेरपुर : विकास खंड क्षेत्र की ग्राम पंचायत टेढ़ा सहित अन्य पंचायतों में धान की पराली जलाए जाने से क्षेत्र में प्रदूषण का ग्राफ बढ़ा है। लोगों ने सुबह शाम आंखों में जलन होने के साथ सांस लेने में परेशानी होने की शिकायतें बताई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप