गोरखपुर, जेएनएन। दिल्ली के निजामुद्दीन के तब्लीगी मरकज में शामिल असोम निवासी दो जमातियों को घर में शरण देने वाली कुशीनगर जिले के नेबुआ-नौरंगिया थाना क्षेत्र के गांव पटेरा बुजुर्ग निवासी 58 वर्षीय महिला शकीरुन्निशा की शुक्रवार को मौत हो गई। खबर मिलते ही प्रशासन का अमला गांव में पहुंच गया।

दोपहर में बिगड़ी तबीयत

पटेरा बुजुर्ग गांव निवासी रहमतुल्लाह अंसारी की पत्नी शकीरुन्निशा की तबीयत दोपहर में अचानक बिगड़ गई। परिजन उसे अस्पताल ले जाने की तैयारी में थे कि मौत हो गई। शकीरुन्निशा की मौत की खबर ग्रामीणों ने नेबुआ-नौरंगिया पुलिस को दी।

मौत की खबर पर गांव पहुंचे डाक्‍टर

सीएचसी विशुनपुरा के प्रभारी डा.नवेंदुभूषण तत्काल गांव पहुंचे और परिजनों से पूरी जानकारी ली। परिजनों ने बताया कि महिला हृदय रोग से पीडि़त थी। छह अप्रैल को उसके घर से दो जमाती पकड़े गए थे। दोनों की पहचान अब्दुल सलाम, निवासी सालमा बोरी थाना भीम नौगाज-असोम व फकरूद्दीन निवासी कांदोमलिगड़ी झूरिया नौगांवा-असोम के रूप में हुई थी। इनके निजामुद्दीन के मरकज में शामिल होने की पुष्टि हुई थी।

तब आई थी निगेटिव रिपोर्ट

उस समय दोनों जमातियों व शरण देने वाले दंपती की रिपोर्ट निगेटिव मिली थी। एसपी विनोद कुमार मिश्र ने बताया कि एहतियात के तौर पर महिला के शव का पोस्टमार्टम व कोरोना जांच कराने का निर्णय लिया गया है। प्रारंभिक जांच में महिला के हृदय रोग से पीडि़त होने की बात सामने आई है। दोनों जमाती पडरौना स्थित यूएनपीजी कॉलेज के क्वारंटाइन केंद्र में पहले से ही रखे गए हैं।

10 नेपाली सहित 11 जमातियों की जांच रिपोर्ट निगेटिव

कुशीनगर जिले के जोकवा बाजार से बुधवार की सुबह पकड़े गए 10 नेपाली सहित 11 जमातियों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। इनमें कोरोना का लक्षण नहीं मिले हैं। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस-प्रशासन ने राहत की सांस ली है। तुर्कपट्टी पुलिस ने जोकवा बाजार से अहमद हुसैन निवासी कविलासा थाना पातो, मो.कमरूल हुसैन निवासी राजगिराज थाना राजगिराज, मो.तैय्यब निवासी गौरा थाना बौदे बरसाई, मो.रफीद रहमान निवासी रामपुर थाना रूपनी, इस्लाम मियां निवासी कविलासा थाना पातो, मो.जावेद अख्तर निवासी थाना बुधैवा, मो.नजीर निवासी गौरा थाना बौउदे बरसाइन, मो.वकील निवासी गौरा थाना बौदे बरसाई, मो.नजीर निवासी गौरा थाना बौउदे बरसोई जिला सप्तरी नेपाल, मुजीब उर रहमान निवासी थाना हरिपुर जिला सुनसरी, अब्दुल गफूर निवासी रैयम थाना भैरव जिला मधुबनी बिहार सहित 11 जमातियों को पकड़ा था।

सोनौली के रास्‍ते भारत आए थे सभी जमाती

सभी जमाती पांच मार्च को सोनौली के रास्ते भारत आए थे। सात मार्च को खड्डा थाना क्षेत्र के गांव खैरी स्थित मस्जिद में आयोजित जमात में शामिल हुए। इसके बाद वे जिले स्थित विभिन्न मस्जिदों में भी शामिल हुए। 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा के बाद सभी इधर-उधर छिप कर रह रहे थे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इनका नमूना जांच के लिए गोरखपुर मेडिकल कालेज भेजा गया था। एसपी विनोद कुमार मिश्र ने कहा कि जमातियों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो गई, जो निगेटिव आई है।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस