गोरखपुर, जेएनएन। देवरिया के सदर कोतवाली के सोनूघाट के समीप स्थित एक मकान से लाखों रुपये चोरी होने के दावे का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। मकान में चोरी नहीं हुई थी, बल्कि प्रेमी को दिए गए नकदी, मोबाइल समेत अन्य सामान छिपाने के लिए परिवार की एक महिला ने यह कहानी रची थी। पुलिस ने प्रेमी व महिला को हिरासत में लेने के साथ ही आभूषण, नकदी व मोबाइल बरामद कर लिया है।

लाखों रुपये के आभूषण चोरी होने दी थी सूचना

सोनूघाट के समीप के रहने वाली एक महिला ने पुलिस से शिकायत की कि उसके घर से नकदी, मोबाइल व लाखों रुपये की चोरी हो गई है। जांच में जुटी पुलिस ने सर्विलांस के जरिये कुंडली खंगालते हुए आजमगढ़ जनपद के एक युवक को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में युवक ने बताया कि चोरी का आरोप लगाने वाली उसकी प्रेमिका है। वह उससे मिलने के लिए गया था और प्रेमिका ने 35 हजार रुपये नकद व मोबाइल उसे दिया है। इसके बाद से ही वह चोरी की कहानी बना दी। जब पुलिस ने महिला को उठाया तो पूरा राज महिला ने खोल दिया और आभूषण अपने घर से ही बरामद करा दिया है। पुलिस अधीक्षक डा.श्रीपति मिश्र ने कहा कि चोरी नहीं हुई है। महिला ने पूरी कहानी रची थी।

प्रेमी ने दूरी बनाई तो नदी में छलांग लगाने पहुंची प्रेमिका

प्रेमी के साथ जिंदगी गुजारने के लिए युवती ने 15 दिन पहले मंदिर में अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए। अब प्रेमी पति युवती से दूरी बनाने लगा है। प्रेम में मिले धोखे से परेशान युवती घर छोड़कर भागलपुर पुल पर छलांग लगाने पहुंच गई। हालांकि उसके पहले ही पुलिस ने युवती को बचा लिया और इसकी जानकारी स्वजन को दे दी। स्वजन पहुंचे और युवती को समझा-बुझाकर घर लेकर चले गए।

देवरिया के खामपार थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली युवती का पड़ोसी से प्रेम संबंध हो गया। दो साल तक दोनों प्रेम करते रहे। दोनों का प्रेम इस कदर परवान चढ़ा कि दोनों ने ङ्क्षजदगी साथ गुजारने की कसम खाते हुए मंदिर में 15 दिन पहले सात फेरे ले लिया। जब प्रेमी के घर वालों को इसकी भनक लगी तो वह युवती को अपनाने से इन्कार कर दिए और प्रेमी भी दूरी बनाने लगा। लगभग दस दिनों से वह युवती से बातचीत भी नहीं कर रहा है। सोमवार की भोर में युवती भागलपुर पुल पर पहुंच गई और सरयू नदी में छलांग लगाने की तैयारी में थी। इस बीच पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

Edited By: Satish Chand Shukla