गोरखपुर, जागरण संवाददाता : उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के देवरिया डिपो अब अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगा। यहां यात्रियों के लिए 24 घंटे वाईफाई की सुविधा मिलेगी। नगर पालिका प्रशासन ने इसका खाका तैयार किया है। अक्टूबर से यह सुविधा शुरू होने की बात कही जा रही है।

महत्वपूर्ण स्थान है देवरिया डिपो का

परिवहन निगम के आंकड़ों में देवरिया डिपो का महत्वपूर्ण स्थान हैं। डिपो से हर दिन लगभग 15 लाख रुपये की आमदनी होती है। यहां से पांच हजार से अधिक यात्री हर दिन यात्रा करते हैं। डिपो के जर्जर भवन को ध्वस्त कर नया भवन बनाने के लिए बजट भी पास हो गया है। जल्द ही भवन निर्माण भी शुरू हो जाएगा। इस बीच नगर पालिका परिषद ने यात्रियों के लिए इंटरनेट सुविधा देने की तैयारी कर ली है। वाईफाई के जरिये यात्रियों को इंटरनेट सुविधा दी जाएगी। एक निजी कंपनी को 90 हजार रुपये में सिस्टम लगाने की अनुमति दी है। यह सुविधा बेहतर रही तो नगर पालिका प्रशासन कुछ और सार्वजनिक स्थानों पर वाईफाई की सुविधा देने की तैयारी में है। अधिशासी अधिकारी रोहित कुमार सिंह ने कहा कि वाईफाई के लिए मंजूरी मिल गई है। जल्द ही सिस्टम लगवा कर सुविधा शुरू कर दी जाएगी।

वर्कशाप में संसाधन के अभाव में खड़ी हैं निगम की 18 बसें

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के देवरिया डिपो की हालत इन दिनों खराब हो गई है। वर्कशाप में संसाधन का अभाव है। इसके चलते 18 बसें निगम की खड़ी हो गई है। हर दिन दो से ढाई लाख रुपये का राजस्व प्रभावित हो रहा है। जिम्मेदार अधिकारी जल्द ही व्यवस्था बेहतर करने का दावा कर रहे हैं। देवरिया डिपो का अपना खुद का वर्कशाप है, जिसमें 20 नियमित व 22 संविदा कर्मचारी कार्य कर रहे हैं। पहले इस वर्कशाप में पर्याप्त संसाधन हुआ करता था लेकिन इन दिनों वर्कशाप में संसाधन की कमी हो गई है। पहिया न ही अन्य संसाधन उपलब्ध है। इसके चलते रोडवेज कर्मियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। निगम की 14 बसें पहिया व चार बसें अन्य गड़बड़ी के चलते वर्कशाप की शोभा बढ़ा रही हैं। इसके अलावा कुछ अन्य बसें जुगाड़ से चल रही हैं।

पांच हजार लोग करते हैं यात्रा

देवरिया डिपो से दिल्ली तक बसें जाती हैं। इस समय डिपो के पास 122 अनुबंधित व 68 निगम की बसें हैं। इस डिपो की आमदनी हर दिन 14 से 15 लाख रुपये हैं। पांच हजार से अधिक लोग यात्रा करते हैं।

Edited By: Rahul Srivastava