गोरखपुर, उमेश पाठक। रामगढ़ ताल के किनारे प्रदेश का सबसे ऊंचा तिरंगा लगाने का रास्ता साफ हो गया है। अभी तक जीडीए ने एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) की ओर से रोक का हवाला देते हुए अनुमति नहीं दी थी लेकिन कुछ दिन पहले झंडा लगाने वाली संस्था को अनुमति दे दी गई है। जीडीए ने झंडा लगाने के स्थान से एलटी लाइन हटाने के लिए बिजली निगम को पत्र लिखा है।

नगर निगम, जल निगम, फायर बिग्रेड व एयरफोर्स से पहले ही मिल चुकी है अनुमति

प्रदेश का सबसे ऊंचा तिरंगा लगाने को लेकर नगर निगम, जल निगम, फायर बिग्रेड व एयरफोर्स पहले ही अनुमति दे चुका है। अब जीडीए की अनुमति मिलने से रास्ता साफ हो गया। पिछले वर्ष ही स्वतंत्रता दिवस पर 246 फीट की ऊंचाई पर 540 वर्ग फीट का तिरंगा फहराने की उम्मीद कर रहे उस संस्था के लोगों ने एक साल से अधिक समय बाद मिली अनुमति से राहत की सांस ली है।

ऐसे मन में आया विचार

शहर के युवा उद्योगपति अमर तुलस्यान ने देश में कई स्थानों पर काफी ऊंचाई पर तिरंगा झंडा फहरता देखा तो तय किया कि ऐसे शहरों की फेहरिस्त में वह अपने शहर गोरखपुर को भी शामिल करवाएंगे। केजी पान प्रोडक्ट प्राइवेट लिमिटेड और नाइन सेनेटरी के सौजन्य से उन्होंने इस कार्य को पूरा करने की ठानी, जिसके वह प्रबंध निदेशक हैं। संस्था की ओर से तीन दिसंबर 2017 को जिला प्रशासन को इस बाबत अनुमति के लिए पत्र रिसीव कराय गया। मामला राष्ट्रीय गौरव से जुड़ा था, सो तत्कालीन डीएम ने तत्काल इसे लेकर संबंधित विभागों को कार्यवाही के लिए निर्देशित किया। उधर संस्था ने झंडा निर्माण की जिम्मेदारी देश के सबसे बड़ी झंडा निर्माण कंपनी सहगल इंडस्ट्रीज को सौंप दी।

सभी विभागों से मिली अनुमति

जिलाधिकारी का निर्देश होते ही बारी-बारी से नगर निगम, जल निगम, फायर ब्रिगेड का अनुमति संस्था को मिल गई। यहां तक कि कुछ औपचारिकताओं के बाद 11 सितंबर 2018 को एयरफोर्स ने भी तिरंगा लगाने की अनुमति दे दी। इसी क्रम में जुलाई 2018 में जब जीडीए से अनुमति की बारी आई तो उसने इस शर्त पर अनुमति पत्र दिया कि झंडे की स्थापना के पूर्व एनजीटी की अनुमति भी जरूर ले ली जाए। उधर, इस बीच अनुमति लेने के दौरान संस्था ने जेटी पर झंडे का फाउंडेशन, पोल और झंडे के निर्माण का कार्य पूरा कर लिया। जीडीए के मुख्‍य अभियंता संजय सिंह ने बताया कि झंडा लगाने की अनुमति दे दी गई है।

गाजियाबाद में है प्रदेश का सबसे ऊंचा झंडा

इस समय प्रदेश का सबसे ऊंचा झंडा गाजियाबाद के मुखर्जी पार्क में स्थापित है, जिसकी ऊंचाई 211 फीट है। ऐसे में गोरखपुर में जिस झंडे को फहराने की तैयारी है, वह वर्तमान सबसे ऊंचे झंडे से 35 फीट अधिक ऊंचा होगा।

15 किलोमीटर की दूरी से दिखाई पड़ेगा झंडा

झंडा स्थापना स्थल के आसपास लंबी दूरी तक रामगढ़ ताल का दायरा होने और शहर की ऊंची से ऊंची इमारत से झंडे की लंबाई के अधिक होने की वजह से संस्था का दावा है कि स्थापना स्थल से इसकी दृश्यता कम से कम 15 किलोमीटर होगी। ऐसे में शहर के हर कोने से इसे देखा जा सकेगा।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस