गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोड़धोइया नाला में पहुंचने से पहले गंदे पानी को साफ किया जाएगा। इसके लिए कुछ स्थानों पर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगाया जाएगा। मध्य प्रदेश के इंदौर शहर की तरह महानगर की सफाई व्यवस्था होगी। इसके लिए नगर आयुक्त अविनाश सिंह के नेतृत्व में अफसरों की टीम इंदौर जाएगी।

मुख्‍य सच‍िव ने क‍िया दौरा

मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र गोड़धोइया नाला की सफाई देखने पहुंचे। बिछिया स्थित शहीद पुलिया से उन्होंने नाला देखा तो सफाई पर संतोष जताया। बोले, नाले को गोमती रिवर फ्रंट की तरह विकसित करना है। इसमें गंदा पानी नहीं दिखना चाहिए। नगर आयुक्त ने जगह-जगह एसटीपी स्थापित करने की योजना बताई। इस पर मुख्य सचिव ने खुशी जताई और नगर आयुक्त को टीम के साथ इंदौर का दौरा करने को कहा।

मुख्य अभियंता सुरेश चंद ने बाबा राघवदास मेडिकल कालेज के पीछे से शुरू हुए नाले को नक्शे के माध्यम से दिखाया। बताया कि नाला रामगढ़ताल में मिलता है। मुख्य सचिव ने महानगर के सभी नालों की सफाई के निर्देश दिए। कहा कि इस बार बारिश में कहीं जलभराव नहीं होना चाहिए।

महापौर के प्रेरणादाई नेतृत्व से हुआ संभव

नगर आयुक्त अविनाश सिंह ने कहा कि महानगर और गोड़धोइया नाला की सफाई पर मुख्य सचिव ने नगर निगम की प्रशंसा की है। यह महापौर सीताराम जायसवाल के प्रेरणादाई नेतृत्व से संभव हुआ है। नगर निगम के सभी अफसर, जोनल अफसर, सफाई निरीक्षक, सुपरवाइजर, सफाईकर्मियों ने दिन-रात परिश्रम कर सफाई को दुरुस्त किया है।

भरवलिया बुजुर्ग में कूड़े का ढेर, नागरिक परेशान

तारामंडल क्षेत्र के भरवलिया बुजुर्ग कालोनी में कूड़े के ढेर से नागरिक परेशान हैं। कई गलियों में महीनों से न तो सफाई हुई और न ही कूड़ा उठा। नागरिकों का आरोप है कि नगर निगम के सफाई निरीक्षक कर्मचारियों की कमी की बात कहकर वापस कर देते हैं तो अफसर सुनते ही नहीं हैं।

किसान कांग्रेस के प्रवक्ता प्रदीप नाथ शुक्ल और जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव मो. अशरफ आलम खान ने कहा कि गोरखपुर विकास प्राधिकरण कार्यालय के सामने का इलाका होने के बाद भी सफाई पर कोई ध्यान नहीं देता है। इससे नागरिकों में गुस्सा बढ़ रहा है। कहा कि एक सप्ताह में कूड़ा न उठा तो ठेले में कूड़ा रखकर नगर निगम के सामने प्रदर्शन किया जाएगा।

Edited By: Pradeep Srivastava