मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

गोरखपुर, जेएनएन। छेड़खानी और दुष्कर्म की घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस ने एक अनोखी पहल की है। वह छात्राओं के बीच एक फार्म वितरित कर रही है जिसमें शोहदों के खड़े रहने वाले स्थान की पहचान हो जाएगी। बस्ती जिले के धर्मेन्द्र सिंह के पास कोई औलाद नहीं है। उन्होंने गरीब बच्चों में ही अपने बच्चे की सूरत देखते हैं। इसलिए उन्होंने गरीब बच्चों को निश्शुल्क कोचिंग देना शुरू कर दिया है। उनके पढ़ाए हुए तमाम बच्चे नौकरी भी कर रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीराम चौहान ने कहा कि अब कश्मीर में धारा 370 की बात नहीं होनी चाहिए। यदि बात करनी है तो पाक अधिकृत कश्मीर पर करें। मां-बाप के बीच सो रहे छह माह के एक बच्चे के सिर में चोट लगने से मौत हो गई। चोट कैसे लगी, पुलिस जांच कर रही है। गोरखपुर शहर में बिजली कटौती बढ़ गई है और लोग परेशान हो गए हैं। छात्राओं के लिए पुलिस की अनोखी पहल

स्कूल, कोचिंग और बाजार जाते समय किस जगह और किस वक्त छेड़खानी की घटनाएं होती हैं, यह पीड़ित लड़कियों से बेहतर कोई नहीं बता सकता, लेकिन ऐसे मामलों में अधिकतर लड़कियां सामने नहीं आती। गोरखपुर के एसपी सिटी ने पहल करते हुए स्कूल और कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियों से ही इस तरह की घटनाओं का फीडबैक लेने का निर्देश दिया है। उनके बीच एक फार्म वितरित किया जा रहा है, जिस पर वह उन स्थानों को जिक्र करेंगी जहां पर शोहदों का जमावड़ा होता है।

गरीब बच्चों को सिर्फ पढ़ाते ही नहीं

यूं तो बस्ती जिले का सैनिक गांव पचवस देश सेवा के लिए कई पीढि़यों से विख्यात है। लेकिन यहां के एक लाल ने राष्ट्र भक्ति की अपनी एक अलग राह बनाई है। नाम धर्मेंद्र सिंह है। जिनके दिल के दरवाजे गरीब बच्चों के लिए हमेशा खुले रहते हैं। इनका स्नेहिल हृदय गांव के गरीब बच्चों के जीवन में शिक्षा का नव अंकुर भर रहा है। गरीब बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देकर आगे बढ़ाना इनके जीवन का उद्देश्य बन गया है। इनके पढ़ाए हुए तमाम छात्र और छात्राएं आज नौकरी में हैं।

अब केवल पाक अधिकृत कश्मीर पर बात करें देश के विद्वान

पूर्व केंद्रीय मंत्री व भाजपा के देवरिया जनपद प्रभारी श्रीराम चौहान ने कहा कि देश के विद्वानों को धारा 370 पर नहीं, बल्कि अब पाक अधिकृत कश्मीर पर बात करनी चाहिए। धारा 370 तो अस्थायी रूप से लागू था, जिसे तुष्टिकरण की राजनीति के कारण खत्म नहीं किया जा सका। अब वह खत्म हो चुका है।

मां-बाप के बीच सो रहा था मासूम, सिर में चोट लगने से हुई मौत, हत्या का आरोप

देवरिया जिले के बघौचघाट थाना क्षेत्र के ग्राम मझौवा में शनिवार की रात अपने मां-बाप के साथ चारपाई पर सो रहे छह माह के मासूम की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई। परिजनों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मासूम के शव को कब्जे में ले लिया। परिजनों ने पट्टीदार पर हत्या करने का आरोप लगाया है। उधर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिर में चोट लगने की पुष्टि हुई है। हालांकि मौत का कारण स्पष्ट न होने के कारण बिसरा सुरक्षित कर लिया गया है।

बिजली है कि मानती ही नहीं, अक्सर दे जाती है दगा

यदि अचानक कोई यह सवाल कर दे कि कितने दिन से नियमित बिजली है, तो आपको सोचना पड़ जाएगा। शायद इसका उत्तर भी न पाएं। हां, एक उत्तर सभी से मिल जाएगा। वह यह कि यहां पर अनियमित बिजली है। आश्चर्य होता है कि यह सीएम सिटी है और दावा 24 घंटे बिजली आपूर्ति का है। यह स्थिति केवल शहर की ही नहीं, अपितु ग्रामीण क्षेत्रों में में भी है। वहां पर तो कई-कई दिन के बाद बिजली आती है। बिजली कटौती ने पूरे दिन परेशान रखा। शहर के ज्यादातर हिस्सों में बिजली की आंख-मिचौली चलती रही। कटौती का कारण कहीं फाल्ट बताया गया तो कहीं उपभोक्ताओं के फोन का अफसरों ने जवाब ही नहीं दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप