गोरखपुर, जेएनएन। नगर निगम के अफसरों की सुस्ती इसी तरह रही तो आने वाले दिनों में एक लाख से ज्यादा नागरिक जलभराव झेलेंगे। जटेपुर उत्तरी में लखनऊ रेल खंड पर रेलवे ने तीसरी लाइन का काम शुरू करा दिया है। इस लाइन के किनारे यदि नाला नहीं बनाया गया तो एक दर्जन से ज्यादा मोहल्लों का पानी ही नहीं निकल पाएगा।

धर्मशाला ओवरब्रिज से गोरखनाथ क्रासिंग के बीच दो रेल लाइन के नीचे तीन स्थानों पर पुलिया बनी है। इस पुलिया के रास्ते जटेपुर उत्तरी और अन्य इलाकों का पानी रेल लाइन की दूसरी तरफ जाता है।

मुख्यमंत्री से की थी मुलाकात

जनप्रिय विहार वार्ड के पार्षद ऋषि मोहन वर्मा ने पिछले दिनों लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर इलाके में जलनिकासी की व्यवस्था के लिए सर्वे कराने की मांग की थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर नगर आयुक्त अंजनी कुमार सिंह ने निरीक्षण किया था। उन्होंने प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए हैं लेकिन अभी सर्वे नहीं शुरू हो सका है।

इन इलाकों में होगी दिक्कत

जाहिदाबाद, पुराना मछली दफ्तर, अंसारी रोड, दिग्विजयनगर, जनप्रिय विहार, हड़हवा फाटक, पचपेड़वा, लोहिया नगर, जटेपुर उत्तरी, मंशाबाग, काली मंदिर, सिंधी कॉलोनी, सुभाष नगर, रामबाग, तरंग क्रासिंग, हुमायूंपुर में जलभराव के कारण दिक्‍कत होगी।

क्‍या कहते हैं सभासद

सभासद ऋषि मोहन वर्मा का कहना है कि नौतनवां रेलखंड से लखनऊ रेलखंड के बीच एक लाख से ज्यादा की आबादी रहती है। रेल लाइन के नीचे से पानी निकलता है। तीसरी लाइन बनने से पहले यदि नाला नहीं बना तो मुसीबत खड़ी हो जाएगी।

तीसरी लाइन के लिए शुरू हो गया है काम

इस संबंध में पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह का कहना है कि रेलवे की तीसरी लाइन का काम शुरू हो गया है। दोनों लाइनों की तरह तीसरी लाइन के नीचे भी पुलिया बनाई जाएगी। रेलवे अपनी नई लाइन बनाने पर पुरानी लाइन के बराबर ही पुलिया बनाता है।

सर्वे का दिया है निर्देश

इस संबंध में नगर आयुक्‍त अंजनी कुमार सिंह का कहना है कि जटेपुर उत्तरी और अन्य इलाकों में जलभराव की समस्या को देखते हुए निरीक्षण किया था। अफसरों को निर्देश दिए गए हैं कि जल्द से जल्द सर्वे कर जलनिकासी की व्यवस्था के लिए प्रस्ताव दें।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस