मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

गोरखपुर, प्रेम नारायण द्विवेदी। पूर्वोत्‍तर रेलवे के कौवाबाग रेलवे क्रासिंग के रेल लाइन पर ट्रेनें दौड़ती रहेंगी और नीचे अंडरपास तैयार होता रहेगा। रेलवे प्रशासन ने अंडरपास निर्माण को चुनौती के रूप में स्वीकार किया है। निर्माण कार्य बारिश में भी नहीं रुका है। रेलवे का कहना है कि अंडरपास अक्टूबर में हर हाल में बनकर तैयार हो जाएगा।

शुरू हो गया है निर्माण कार्य

रेल लाइन के नीचे मिट्टी से संबंधित कार्य तो ठप हैं, लेकिन लोहे के गार्डर लगाने और दोनों तरफ एप्रोच मार्ग तैयार करने का काम तेजी से चल रहा है। अंडरपास में बारिश का पानी न जमा हो, इसके लिए एप्रोच मार्ग पर छज्जे लगाए जाएंगे। दक्षिण एप्रोच मार्ग पर छज्जा लगाने के लिए कॉलम तैयार किए जा रहे हैं। उत्तरी एप्रोच मार्ग का कार्य भी तेजी के साथ शुरू हो गया है। फर्श का कार्य अंतिम चरण में है।

कुछ समय के लिए लिया जाएगा ब्‍लॉक

इंजीनियरों का कहना है कि बारिश समाप्त होते ही सितंबर में रेल लाइन के नीचे बाक्स भी सेट कर दिए जाएंगे। उनके अनुसार गार्डर लगने के बाद ही रेल लाइन के नीचे की मिट्टी निकाली जाएगी। उसके बाद कंकरीट से प्लेटफार्म तैयार होगा। बाक्स सेट करने के लिए कुछ समय के लिए ब्लॉक लिया जाएगा।

13 मीटर बाक्स धंसने से धीमी पड़ गई निर्माण कार्य की गति

अंडरपास का निर्माण मार्च तक पूरा होना था, लेकिन क्रासिंग के नीचे नमी होने के चलते 13 मीटर बाक्स धंस गया। इसके चलते कार्य की गति धीमी पड़ गई। क्रासिंग के नीचे लगभग 43 मीटर बाक्स सेट किए जाने हैं।

अंडरपास से आसान हो जाएगी राह

कौवाबाग क्रासिंग पर अंडरपास बनने से हजारों लोगों की राह आसान हो जाएगी। क्रासिंग बंद होने के चलते आसपास क्षेत्र में रहने वाले रेलकर्मियों और आम लोगों की परेशानी बढ़ गई है। मोहद्दीपुर चौराहा और चारफाटक ओवरब्रिज पर जाम की समस्या बढ़ गई है।

यह भी जानें

प्रस्तावित बजट : करीब 15 करोड़

अंडरपास की ऊंचाई : 3.66 मीटर

बाक्स की लंबाई : 43.00 मीटर

एप्रोच के साथ लंबाई : 350 मीटर

अंडरपास की चौड़ाई - 12 मीटर

रोजाना आवाजाही - लगभग 50 हजार

एप्रोच मार्ग का कार्य तेजी से चल रहा है। अक्टूबर तक हर हाल में अंडरपास का निर्माण पूरा हो जाएगा। नवंबर से लोगों की राह आसान हो जाएगी। - पंकज कुमार सिंह, सीपीआरओ, एनई रेलवे

Posted By: Pradeep Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप