गोरखपुर, जेएनएन। डोमिनगढ़ स्टेशन के पास शुक्रवार रात अहमदाबाद एक्सप्रेस (19409) को पलटने की कोशिश की गई। ट्रैक पर अराजक तत्वों ने सीमेंटेड पोल रख दिया था। कर्व से पहले ही लोको पायलट की नजर पड़ी तो इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक ली। अन्यथा बड़ी दुर्घटना हो सकती थी।

शुक्रवार की रात 8.10 बजे के आसपास अहमदाबाद से गोरखपुर आ रही ट्रेन लगभग 45 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से डोमिनगढ़ स्टेशन से पहले कर्व से होकर गुजर रही थी। ट्रेन को डोमिनगढ़ में बिना रुके रन-थ्रू गोरखपुर पहुंचना था। इसी बीच लोको पायलट आरए पर्वत की नजर रेल लाइन के बीच सीमेंटेड पोल पर पड़ गई। अचानक लाइन के बीच पोल पड़े देख वह चौंक गए। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना गार्ड को दी। उसके बाद उन्होंने ट्रेन में ब्रेक लगा दी। उनकी व गार्ड जयकिशन की सूझबूझ से ट्रेन रोकी गई। फिर लोको पायलट और गार्ड ट्रेन से उतरकर मौके पर गए। उन्होंने देखा कि ट्रेन हादसा का सुनियोजित इंतजाम किया गया था। यदि समय रहते ट्रेन न रुकी होती तो पता नहीं कितनी संख्या में लोग मौत के शिकार होते। खैर, इसके बाद उन्होंने कंट्रोल रूम को सूचना दी। मौके पर पहुंचे आरपीएफ, जीआरपी और संबंधित रेलकर्मियों ने पोल को रेल लाइन से हटाया। 15 मिनट बाद ट्रेन रवाना हो सकी। आशंका जताई जा रही है कि अराजकतत्वों ने ट्रैक किनारे पड़े पोल को रेल लाइन पर रख दिया था। आरपीएफ कमांडेंट एसी मिश्रा के अनुसार मामला संज्ञान में आया है, जांच कराई जा रही है। दूसरी तरफ आरपीएफ ने सतर्कता बढ़ा दी है। अब उसने नियमित रेलवे ट्रैक और ट्रेनों की निगरानी करनी शुरू कर दी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस