गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Power Cut in Gorakhpur: बिजली से जुड़े अनुरक्षण कार्य के लिए विद्युत उपकेंद्र विकास नगर से निकलने वाला बरगदवा फीडर, हैचरी फीडर तथा साकेत नगर फीडर सुबह 11 से दोपहर बाद तीन बजे तक, विद्युत उपकेंद्र भटहट तथा पनियरा से जुड़े क्षेत्रों में दोपहर 12 से दो बजे तक बंद रहेगा।

इन क्षेत्रों में भी नहीं रहेगी बिजली

इसी तरह विद्युत उपकेंद्र इंडस्ट्रियल से निकलने वाले रामनगर फीडर को सुबह 10.30 से दोपहर बाद 3.30 बजे तक बंद रखा जाएगा। यह जानकारी देते हुए विद्युत माध्यमिक कार्य खंड मोहद्दीपुर के अधिशासी अभियंता ने बताया कि फीडर बंद होने के कारण इनसे जुड़े मोहल्लों में बिजली गुल रहेगी।

शहर में बनाए जाएंगे दो नए बिजली घर

शहर में बढ़ती आबादी के साथ ही बिजली की मांग भी बढ़ रही है। पुराने बिजली घर में विस्तार की संभावना अब न के बराबर है। ऐसे में बिजली निगम ने नंदानगर एवं कलेक्ट्री कचहरी के पास नए बिजली घर बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा है। शासन को भेजे गए प्रस्ताव में शाहपुर एवं टाउनहाल बिजली घरों को ओवरलोड बताया गया है। इस बात का भी जिक्र है कि अधिक उपभोग के समय बिजली काटनी पड़ती है। शाहपुर बिजली घर में मई 2022 में पांच एमवीए ट्रांसफार्म की क्षमता बढ़ाकर आठ एमवीए की गई।

बिजली आपूर्ति में मिलेगी राहत

इससे बिजली आपूर्ति में कुछ राहत मिली लेकिन लगातार हो रहे विकास के कारण मांग और बढ़ती जा रही है। अगले साल तक यह बिजली घर एक बार फिर ओवरलोड हो सकता है। यही स्थिति टाउनहाल क्षेत्र में भी है। कई बहुमंजिला इमारत बनने से यहां लोड बढ़ने की संभावना है। ऐसी स्थिति में टाउनहाल के पास कलेक्ट्री कचहरी या कचहरी क्लब में बिजली घर स्थापित करने का प्रस्ताव भेजा गया है। अधीक्षण अभियंता शहर यूसी वर्मा ने बताया कि शहर के दो बिजली घरों के प्रस्ताव को रिवैम्प डिस्ट्रीब्यूशन सेक्टर स्कीम में शामिल किया गया है। शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

नई फर्म को मिली स्ट्रीट लाइट के अनुरक्षण की जिम्मेदारी

नगर निगम ने स्ट्रीट लाइट के अनुरक्षण की जिम्मेदारी नई फर्म को दी है। बकाया विवाद को लेकर पुरानी कंपनी ईईएसएल ने काम करना बंद कर दिया है। नई फर्म एसएस राजपूत कंस्ट्रक्शन ने 13 सितंबर से काम शुरू भी कर दिया है। पुरानी फर्म के काम न करने के कारण स्ट्रीट लाइट को लेकर शिकायतें बढ़ गई थीं और नगर निगम को गैंग लगाना पड़ा था।

एक माह का ट्रायल कर रही है कंपनी

नगर निगम ने नई फर्म को एक माह के ट्रायल पर रखा गया है। शिकायतों के निस्तारण की गुणवत्ता का आधार पर अगले माह फर्म से एग्रीमेंट किया जाएगा। नगर आयुक्त स्वयं नई फर्म के कार्यों की निगरानी कर रहे हैं। 2017 से स्ट्रीट लाइट का रखरखाव ईईएसएल के जिम्मे था। अगस्त में भुगतान को लेकर कंपनी के कर्मचारियों ने काम ठप कर दिया। इसके बाद निगम के अधिकारियों और ईईएसएल के बीच बैठक हुई। बकाया को लेकर भी चर्चा हुई। लेकिन ईईएसएल के कर्मचारी काम पर नहीं लौटे। उप नगर आयुक्त संजय शुक्ला ने बताया कि स्ट्रीट लाइट के अनुरक्षण के लिए नई फर्म को जिम्मेदारी दी गई है। अभी फर्म के कार्यों का मूल्यांकन किया जा रहा है। बेहतर कार्य रहा तो अनुबंध किया जाएगा।

Edited By: Pradeep Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट