गोरखपुर, जेएनएन। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शुक्रवार को बिना पंजीकरण चल रहे तीन अस्पतालों को सील कर दिया। संचालकों व चिकित्सकों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है।

सीएमओ के निर्देश पर हुई जांच

शहर में कई नर्सिंग होम और निजी अस्पतालों को बिना पंजीकरण चलाए जाने की सूचना मिली थी। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. श्रीकांत तिवारी के निर्देश पर एसीएमओ डॉ. नीरज कुमार पांडेय व डॉ. एसके पांडेय के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम सबसे पहले मोगलहा स्थित एमकेसी सेवा संस्थान एंड सिया मैटरनिटी सेंटर पहुंची। यहां कई मरीजों की सर्जरी हुई थी। यहां टीम को स्टाफ के नाम पर स्वीपर और वार्ड ब्वाय मिले। यह लोग न तो संचालक के बारे में कुछ बता सके और न ही पंजीकरण संबंधी कोई कागजात दिखा सके। टीम ने अस्पताल को सील कर दिया और भर्ती मरीजों को जिला अस्पताल भेजने की व्यवस्था कराई।

हरमैन अस्‍पताल भी सील

इसके बाद टीम झुंगिया बाजार स्थित हरमैन हॉस्पिटल पहुंची। यहां भी टीम को कोई डॉक्टर, पैरा मेडिकल या प्रशिक्षित स्टाफ मौजूद नहीं मिला। मौके पर मौजूद कर्मचारी अस्पताल के पंजीकरण के बारे में भी कोई जानकारी नहीं दे सके। टीम ने इसे भी सील कर दिया। टीम बांस रोड भटहट स्थित प्रियांशु हॉस्पिटल पहुंची। यहां टीम को कुछ पंफलेट मिले, जिसपर अल्ट्रासाउंड किए जाने की सूचना छपी थी। टीम ने अस्पताल का निरीक्षण किया लेकिन कहीं भी अल्ट्रासाउंड मशीन नहीं मिली। इस अस्पताल में भी कोई डॉक्टर या प्रशिक्षित स्टाफ नहीं मिला। इस अस्पताल को भी सील किया गया। टीम में केके श्रीवास्तव, पीके श्रीवास्तव, मृत्युंजय पांडेय व अनिल तिवारी शामिल थे।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस