गोरखपुर, जेएनएन : गुलरिहा के इटहिया गांव में रहने वाले डा. दीपक विश्वकर्मा और उनक पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी भरा पत्र किसी ने रात में शटर के रास्ते क्‍लीनिक के अंदर डाल दिया था। सुबह क्‍लीनिक का शटर खोल रहे भाई ने पत्र मिलने डाक्टर को इसकी जानकारी दी। नौकरी के नाम पर जालसाजी कर 60 लाख रुपये हड़पने वाले युवक के ऊपर संदेह है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

माता-पिता को नहीं छुड़वाने पर परिवार को मारने की धमकी

पुलिस को दी तहरीर में डा. दीपक विश्वकर्मा ने लिखा है कि सुबह 10 बजे उनके बड़े भाई शुभकरन गुलरिहा स्थित जीवन ज्योति क्‍लीनिक खोलने पहुंचे। शटर के पास उन्हें धमकी भरा पत्र मिला। इसमें लिखा है कि दीपक विश्वकर्मा अगर तुमने जेल में बंद मेरे माता-पिता को नहीं छुड़ाया तो तुम्हारे पूरे परिवार को खत्म करवा दूंगा। मेरे लोग तुम्हारे आसपास मौजूद हैं। बहुत जल्द ही तुम्हारे परिवार के साथ घटना होने वाली है। मेरे माता-पिता के मुकदमे में सुलह कर लो। पत्र भेजने वाले ने अपना नाम नहीं लिखा है। एसपी नार्थ मनोज अवस्थी ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। मुकदमा दर्ज कर जल्द ही धमकी देने वाले को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

जालसाजी के आरोपित दंपती को पुलिस ने भेजा था जेल

23 मई, 2020 को जालसाजी कर 60 लाख रुपये हड़पने और धमकी देने के आरोपित देवरिया, रामपुर कारखाना के मुसहरी निवासी पारसनाथ और उनकी पत्नी बसंती देवी को गुलरिहा पुलिस ने जेल भेजा था। नवंबर, 2019 में दीपक ने गुलरिहा थाने में दंपती के अलावा उनके बेटे राकेश, मनोज और उनके सहयोगी अशोक कुशवाहा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। जालसाजी के मामले में राकेश को लखनऊ पुलिस ने भेजा दिया था। अन्य आरोपितों की तलाश चल रही है। डाक्टर व उनके परिवार के लोगों का कहना है कि पारसनाथ व उनके बेटों ने धमकी भरा पत्र भेजा है, ताकि डरकर वे लोग समझौता कर लें।

Edited By: Rahul Srivastava