गोरखपुर, जेएनएन। देवरिया जिला के सदर कोतवाली क्षेत्र के पुरवा मेहड़ा गांव में बुधवार की रात में छत पर सो रहे छह वर्षीय एक बच्चे को एक युवक ने अपहरण कर लिया। बच्चे को छोडऩे के लिए वह मोबाइल पर परिजनों से पांच लाख रुपये की फिरौती मांग रहा था। अपहरणकर्ता साइकिल के आगे वाली हैंडिल में बच्चे का दोनों हाथ बांध कर ले जा रहा था कि गश्त में जा रहे पुलिस कर्मियों को देख अपहरणकर्ता साइकिल छोड़ फरार हो गया। रो रहे बच्चे को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया और परिजनों को इसकी सूचना दी। ग्रामीण और पुलिस ने रात में ही आरोपत की तलाश की लेकिन वह दिखा नहीं। बावजूद इसके ग्रामीण रात भर खेत के चारो तरफ घेरे रहे। सुबह होते ही आरोपित युवक निकलकर भागने लगा तो ग्रामीणों ने उसे पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस अपहरण का मुकदमा दर्ज कर छानबीन कर रही है।

छत पर सो रहे थे बच्‍चे

मेहड़ा गांव निवासी तेज नारायण यादव का पूरा परिवार छत पर सो रहा था। एक साथ चार बच्चे छत पर सो रहे थे। बुधवार की आधी रात में विकास पुत्र भवन चौहान निवासी नेबुआ नौरंगिया,जनपद कुशीनगर छत पर चढ़ गया। इस दौरान वह तेज नारायण के छह वर्षीय पुत्र जिगर को सोते समय उठा कर नीचे लाया। उसे साइकिल पर बैठा कर लेकर चल दिया। उसे तेज नारायण के घर के सभी बच्चों भलीभांति परिचित थे। साइकिल पर ले जाते समय भी जिगर सो रहा था। कुछ दूर जाने के बाद जब बच्‍चे की नींद खुली तो शोर मचाने लगा। उसके बाद विकास ने बच्चे को डरा धमका कर चुप करा दिया। वह साइकिल से अभी हाटा रोड पर महुआडीह पुलिस चौकी के समीप पहुंचा था कि गश्त के दौरान रास्ते में पुलिस की उस पर नजर पड़ी। पुलिस चौकी के समीप बच्चे के रोने पर टार्च जला कर देखा तो वह बच्चे  को छोड़कर खेत में भाग गया। सुबह पुलिस ने बच्चे से अपहरणकर्ता युवक की पहचान कराई।

कुछ दिन पहले तक करता था मजदूरी

बताया जा रहा है कि आरोपित युवक तेज नारायण के घर में कुछ दिन पहले मजदूरी किया था। इस वजह से उसको पूरी जानकारी थी। इस संबंध में एसएसओ मनोज कुमार ने कहा कि मामले में अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोपित युवक से पूछताछ की जा रही है। 

Posted By: Satish Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप