गोरखपुर, जागरण संवाददाता। Car Hanging on Railway Line: गोरखनाथ ओवरब्रिज पर गुरुवार की सुबह एक एसयूवी गाड़ी रेलिंग तो‍ड़ते हुए रेलवे ट्रैक की ओर लटक गई। जिसकी वजह से पौने दो घंटे तक गोरखपुर-लखनऊ रेलवे मुख्‍य मार्ग बाधित हो गया। इंटरसिटी एक्‍सप्रेस व एक मालगाड़ी को रास्‍ते में रोकना पड़ा। कोतवाली पुलिस ने कार को कब्जे में लेने के साथ ही चालक को गिरफ्तार कर लिया है। हादसे के बाद गाड़ी में सवार युवक फरार हो गए। रेलवे ट्रैक बाधिक होने की सूचना पर बाइक से मौके पर जा रहे दो रेलकर्मियों की तरंग क्रासिंग के पास बाइक से कुचलकर मौत हो गई। 

यह है मामला

गोरखनाथ ओवरब्रिज पर एक एक्‍सयूवी कार सुबह 5.45 बजे अनियंत्रित होकर रेलिंग तोड़ते हुए उत्‍तर की ओर गोरखपुर-लखनऊ रेलवे लाइन की ओर लटक गई। इस हादसे के ठीक बाद गोरखपुर-लखनऊ इंटरसिटी डाउन गोरखपुर रेलवे स्‍टेशन से रवाना हुई। लेकिन तरंग क्रासिंग के ठीक आगे गोरखनाथ ओवरब्रिज पर लटकी कार की वजह से चालक ने ट्रेन रोक दी।रूट बाधित होने की सूचना पर जीआरपी, आरपीएफ के साथ ही कोतवाली व गोरखनाथ पुलिस मौके पर पहुंच गई। क्रेन मंगवाकर लटकी हुई कार को 7.30 बजे हटवाया गया।

दो रेल कर्मचार‍ियों की मौत

इससे पहले रेलवे ट्रैक बाधित होने की सूचना पर बाइक से मौके पर जा रहे रेलकर्मी 32 वर्षीय रविन्द्र कुमार वर्मा और 29 वर्षीय देवेश पांडेय को तरंग क्रासिंग के पास तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी। हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने चालक को गाड़ी समेत मौके से पकड़ लिया। पुलिस की मदद से घायलों का जिला अस्पताल ले गए जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

डिवाइडर से टकराकर वाइक सवार युवक घायल

उधर, गोरखपुर के ग्रामीण क्षेत्र में बीमार बहन को देखकर घर लौट रहा गगहा क्षेत्र के अतायर निवासी प्रदीप शर्मा पुत्र जयराम को गगहा स्थित मंगल बाजार के समीप सडक पर बने डिवाइडर से टकरा कर गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद घायल युवक को पीएचसी गगहा लाया गया। प्राथमिक इलाज के बाद उसे जिला अस्पताल भेजा गया। जहां से गंभीर अवस्था से चिकित्सकों ने मेडिकल कालेज भेज दिया। प्रदीप शर्मा जिला अस्पताल में भर्ती बहन को देखकर बाईक से घर लौट रहे थे।

दो महीने पहले हुई थी देवेश की शादी

कुशीनगर के हाटा, महुआरी के रहने वाले देवेश की शादी दो महीने पहले 24 मई को हुई थी। गगहा के देवकली गांव निवासी ज्योति से हुई थी। देवेश परिवार के साथ गोरखपुर में बौलिया रेलवे कालोनी में रहते थे। वह तीन बहनों के बीच इकलौते भाई थे। देवेश के पिता का देहांत हो चुका है। मौत की खबर के बाद परिवार में कोहराम मच गया। वहीं रविaद्र बलिया जिले के फेफना थाना क्षेत्र के अaडारी गांव के निवासी थे। बौलिया रेलवे कालोनी में रहते थे। उनकी दो बेटियां हैं।

Edited By: Pradeep Srivastava