गोरखपुर, जेएनएन। प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन तथा नोडल अधिकारी दीपक कुमार विकास खंड भटहट के ग्राम इस्लामपुर के प्राथमिक विद्यालय में बच्‍चों से रूबरू हुए। उन्होंने बच्‍चों से गणित के सवाल पूछे। कक्षा में 16 बच्‍चों के सापेक्ष 14 छात्राओं की उपस्थिति पर उन्होंने आश्चर्य जताते हुए पूछा कि क्या यहां बच्चियां ही पढ़ती हैं? शिक्षकों ने बताया कि यहां पर लड़कों की संख्या कम है लड़कियां ही पढऩे में ज्यादा रुचि दिखा रही हैं। इस पर प्रमुख सचिव ने बच्चियों को शाबाशी दी और आगे बढऩे की नसीहत भी। इस्‍लामपुर गांव पहुंचे प्रमुख सचिव

विकासपरक योजनाओं की हकीकत जानने के लिए प्रमुख सचिव दीपक कुमार का काफिला इस्लामपुर गांव पहुंचा। उनकी गाड़ी प्राथमिक विद्यालय पर रुकी। कक्षा पांच के बच्‍चों को सहायक अध्यापक प्रभात राय गणित पढ़ा रहे थे। प्रमुख सचिव ने बच्‍चों से गणित से संबंधित सवाल किया जिसका सभी बच्‍चों ने सही उत्तर दिया। इसके बाद उन्होंने गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना एवं शौचालय की प्रगति पूछी।

332 शौंचालय के सापेक्ष 257 ही पूरे

ग्राम पंचायत सचिव बिंदा देवी ने बताया कि 332 शौंचालय के सापेक्ष 257 शौचालय पूर्ण करा दिए गए हैं। 75 शौचालय अधूरे हैं। उन्होंने पौधरोपण के बारे में भी जानकारी ली। प्रमुख सचिव गुलाब आजीविका स्वयं सहायता समूह से भी रूबरू हुए, जहां पर महिलाओं से विभिन्न प्रकार के अचार व मुरब्बा आदि बनाने की विधियों के बारे में सवाल किया। महिलाओं ने बताया कि गोरखपुर महोत्सव में उन्होंने लगभग 25 हजार रुपये की बिक्री की थी। प्रमुख सचिव ने सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान का भी निरीक्षण किया। उन्होंने लाभार्थियों से राशन वितरण के बारे में जानकारी ली। निरीक्षण के दौरान प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी हर्षिता माथुर, जिला विकास अधिकारी अनिल सिंह, उपजिलाधिकारी सदर सुरेश राय, तहसीलदार सदर डा.संजीव दीक्षित समेत अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

नहर की पटरियों पर खुले में शौच, मिट्टी ढककर बचाई इज्‍जत

विकास खंड भटहट के ग्रामसभा इस्लामपुर में प्रमुख सचिव दीपक कुमार के दौरे की सूचना मिलते ही आनन-फानन में पंचायती राज विभाग ने नहर की पटरियों पर खुले में शौच को मिट्टी से ढकवा कर अपनी इज्जत बचाई। विभाग ने पचासों की संख्या में सफाइकर्मी लगाकर नहर व आसपास के इलाकों में खुले में शौच को ढकवा दिया। खास बात यह कि भारत सरकार के स्वच्‍छ भारत मिशन के अंतर्गत ग्राम पंचायत में 332 परिवारों को शत-प्रतिशत शौचालय की अनुदान राशि मुहैया करा दी गई है। इसके बावजूद खुले में शौच होना अपने आप में विभागीय कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा करता है। इसी तरह पीडब्लूडी ने भी गड्ढों से भरी सड़क को गिट्टी व राबिश डालकर रास्ते को चलने लायक बना दिया। 

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस