गोरखपुर, जेएनएन। फव्वारे गर्मी में राहगीरों को ठंडक पहुंचाने के साथ-साथ शहर की खूबसूरती बढ़ाने के लिए लगाए जाते है, लेकिन जब इनसे पानी नहीं निकलता तो उस स्थल की शोभा बिगड़ने लगती है। यही स्थिति शहर के उन स्थलों की है जहां लाखों रुपये खर्च कर फव्वारे लगाए गए थे, मगर वे महज शो पीस बनकर रह गए हैं। कहीं बिजली का कनेक्शन न होने तो कहीं तकनीकी कारणों से वह बंद हैं।

नगर निगम ने उद्योगपतियों, व्यापारियों और बैंकों के सहयोग से कई चौराहे का सुंदरीकरण कराया था। इसके अतिरिक्त निगम एक करोड़ खर्च कर शास्त्री चौक का सुंदरीकरण करा रहा है। वहां फव्वारा भी लगा है, लेकिन सिर्फ शहर में वीआईपी मूवमेंट होने पर ही चलता है। फव्वारे की देखरेख करने वालों का कहना है कि बिजली विभाग ने कनेक्शन काट दिया है इसलिए कई दिनों से फव्वारा बंद है। इसके अलावा भी लोगों के सहयोग से कुछ जगहों पर फव्वारे भी लगाए गए थे। इसके अलावा नगर निगम ने 60 लाख रुपये खर्च कर निगम परिसर में म्यूजिकल फव्वारा लगवाया है। इसका भी सफल ट्रायल किया जा चुका है। एक शो तीस मिनट का होगा, जिसमें 10 फिल्मी गानों पर रंग-बिरंगी लहरें दिखेंगी। निगम ने इसके लिए 10 रुपये फीस भी निर्धारित की है। फव्वारे के रखरखाव की जिम्मेदारी एक निजी संस्था को दी गई है, लेकिन अब तक एक भी शो नहीं हुआ।

लाल डिग्गी पार्क में छह माह से फव्वारे का बेस बनाकर छोड़ा गया है। दूसरी तरफ रामगढ़ झील में जलनिगम ने शानदार फव्वारा लगाया है, फिलहाल सफल ट्रायल के बाद उसे बंद कर दिया गया है। मई के आखिर तक आम लोग वहां रंग-बिरंगे फौव्वारे का लुत्फ उठा सकेंगे।

नगर निगम के मुख्य अभियंता सुरेश चंद ने बताया कि नगर निगम परिसर और शास्त्री चौक पर फव्वारा तैयार है। तकनीकी कारणों से उसे बंद रखा गया है। इसी सप्ताह दोनों शुरू हो जाएंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप