गोरखपुर, जेएनएन।  राज्यसभा सांसद व पूर्व केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने अपने आवास पर आयुष्मान योजना के लाभार्थियों से मुलाकात की। उन्होंने लाभार्थियों से योजना के बारे में जानकारी ली। लाभार्थियों ने कहा कि गरीबों के स्वास्थ्य के लिए यह इतिहास की सबसे उपयोगी योजना है। राज्य सभा सांसद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर शुरू हुई इस योजना ने अब तक लाखों लोगों की जान बचाई है।

गरीबों के लिए वरदान

पूर्व केंद्रीय वित्‍तराज्‍यमंत्री ने कहा कि यह योजना गरीबों के लिए वरदान है। गरीबों का सही से इलाज नहीं हो पा रहा था। इलाज के अभाव में तमाम गरीबों की बेसमय मौत हो जाया करती थी। प्रधानमंत्री ने आयुष्‍मान योजना शुरू कर गरीबों के लिए बड़ा काम किया है। केवल गोरखपुर में ही नहीं, अपितु पूरे भारत में यही स्थिति है। आयुष्‍मान योजना के तहत पूरे भारत के गरीबों का अच्‍छा इलाज हुआ और वह ठीक होकर अपने घर गए।

सरकार की प्राथमिकता में गरीबों का उत्‍थान

उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार की जनोपयोगी योजनाओं के कारण ही तमाम गरीबों को लाभ मिल रहा है। जिन गरीबों के पास आवास नहीं था, उन्‍हें आवास मिल रहा है। रसोई गैस, बिजली आदि जैसी योजनाओं ने गरीबों का जीवन स्‍तर ऊंचा उठाया है। राशन दुकानों से सस्‍ते में गरीबों को खाद्यान्‍न दिया जा रहा है। भाजपा की ऐसी पहली सरकार है जहां पर गरीबों के उत्‍थान को प्राथमिकता में रखा गया है।

गोरखपुर में 11 हजार से ज्‍यादा मरीजों को लाभ

मुख्‍य चिकित्‍साधिकारी डा. श्रीकांत तिवारी ने कहा कि आयुष्मान योजना के अंतर्गत अब तक गोरखपुर में 11 हजार से ज्यादा मरीज निश्शुल्क इलाज पा चुके हैं। इस योजना के तहत गरीबों को पर्याप्‍त लाभ मिल रहा है। संचालन महानगर मीडिया प्रभारी बृजेश मणि मिश्र व आभार ज्ञापन आयुष्मान योजना के नोडल अधिकारी डॉ. एनके पांडेय ने किया। इस अवसर पर भाजपा के महानगर अध्यक्ष राहुल श्रीवास्तव, अष्टभुजा शुक्ला, अच्युतानंद शाही, क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी बृजेश राम त्रिपाठी, हिमांशु श्रीवास्तव, रवि प्रताप सोनकर, अजय श्रीवास्तव, आदित्य शुक्ला, जिला तकनीकी अधिकारी शशांक शेखर, आयुष्मान भारत के जिला शिकायत अधिकारी विनय कुमार पांडेय सहित बड़ी संख्या में आयुष्मान योजना के लाभार्थी उपस्थित थे। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप