गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर की दशा सुधारने की पहल में परिवहन निगम में शामिल हुआ है। शहर के लिए नासूर बना बीच शहर में स्थित परिवहन निगम के रेलवे बस डिपो को शहर से बाहर ले जाने की तैयारी चल रही है। इस डिपो के शहर से बाहर जाने से शहर में जाम की आधी समस्‍या खत्‍म हो जाएगी।

शासन ने लिखा पत्र

शासन ने अस्थाई रूप से डिपो संचालित करने के लिए जगह चिह्नित करने के लिए क्षेत्रीय परिवहन निगम कार्यालय को पत्र लिखा है। जगह की तलाश शुरू हो गई है। दरअसल, रेलवे बस डिपो को पीपीपी मॉडल के आधार पर अति आधुनिक सुविधा संपन्न बनाया जाना है। इसमें करीब 25 करोड़ रुपये खर्च होंगे। आधुनिक बस डिपो बनाने की प्रक्रिया तो शुरू हो गई है, लेकिन अभी अंतिम मुहर नहीं लगी है। डिपो का भवन आदि जर्जर होता जा रहा है। भारी बारिश में भवनों की स्थिति बेहद खराब हो गई है। दुर्घटना की आशंका को देखते हुए शासन ने फिलहाल डिपो को दूसरी जगह शिफ्ट करने का निर्णय लिया है। सूत्रों के अनुसार पार्क रोड के पास जगह चिह्नित की गई है। अगर बात बन गई तो पार्क रोड या उसके आसपास अस्थाई डिपो बनाया जाएगा।

कचहरी बस डिपो तैयार, नौसढ़ से चल रहीं बसें

गोरखपुर में दो नए बस स्टेशन बनकर तैयार हैं। नौसढ़ से बसों का संचलन शुरू हो गया है। कचहरी बस डिपो भी बनकर तैयार है। उद्घाटन का इंतजार हो रहा है।

बशारतपुर में बन रहा गोरखपुर डिपो और क्षेत्रीय कार्यशाला

बशारतपुर स्थित राप्तीनगर डिपो परिसर में रेलवे बस डिपो गोरखपुर और क्षेत्रीय कार्यशाला का निर्माण तेजी के साथ चल रहा है। दोनों कार्यशाला रेलवे बस डिपो परिसर में है। दोनों कार्यशाला बशारत पर स्थानांतरित हो जाने के बाद रेलवे बस डिपो परिसर में पर्याप्त जगह लगभग पांच एकड़ भूमि मिल जाएगी। डिपो से रोजाना लगभग 12 सौ बसें चलती हैं।

मुख्यालय का पत्र मिला है। जगह की तलाश की जा रही है। - डीवी सिंह, क्षेत्रीय प्रबंधक, गोरखपुर परिक्षेत्र

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस