गोरखपुर, जागरण संवाददाता। अपहरण की कोशिश करने वाले दारोगा पर युवती की हत्या करने का आरोप लगने के बाद दारोगा हिरासत में ले लिया गया है। एसएसपी ने मामले की जांच शुरू करा दी है। फोन करके बुलाने और ट्रेन के आगे फेंकने की जानकारी युवती के स्वजन ने गीडा पुलिस को दी है। जिसे तस्दीक करने के लिए काल डिटेल की छानबीन की जा रही है। बहराइच में तैनात निलंबित दारोगा को हिरासत में ले लिया गया है।

दारोगा के ऊपर युवती की हत्या का आरोप लगने के बाद डीजीपी मुकुल गोयल ने मामले का संज्ञान लिया है।छेडख़ानी व अपहरण की कोशिश करने के आरोपित दारोगा के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए हैं। जिसके बाद एडीजी ने एसएसपी से पूरे मामले की जानकारी मांगी है। सोमवार को मालगाड़ी के चालक ने ट्रेन की चपेट में आने से युवती की मौत होने की सूचना सहजनवां स्टेशन मास्टर को दी थी। वहीं स्वजन का आरोप है कि बहराइच में तैनात दारोगा नरेंद्र चौधरी जून में ही जमानत पर छूट गया था। जिसके बाद से परिवार को लोगों को फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी दे रहा था। सोमवार को उसी ने युवती को बुलाया था और ट्रेन के आगे फेंक दिया। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि घटना से जुड़े सभी पहलुओं की पड़ताल चल रही है।दारोगा के ऊपर हत्या का आरोप लगने पर खोजबीन शुरू हुई तो वह बहराइच में मिला जिसे वहां की पुलिस ने हिरासत में लिया है। मालगाड़ी के चालक ने ट्रेन मेमो में युवती के ट्रेन के आगे कूदकर जान देने की सूचना दी है। युवती के स्वजन ने कोई तहरीर नहीं दी है। पुलिस उनके संपर्क में है, जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

दारोगा ने की थी छेडख़ानी व अपहरण की कोशिश

बहराइच में तैनात दारोगा नरेंद्र चौधरी 28 अप्रैल 2021 की रात में अपने साथियों संग गीडा क्षेत्र में रहने वाली युवती के घर स्कार्पियों से अपने साथियों संग पहुंचा था।स्वजन ने बताया था कि जबरन घर में घुसकर युवती से छेडख़ानी करने के साथ ही उसे अपने साथ ले जाने का प्रयास किया था। शोर मचान पर जुटे गांव के लोगों ने रोकने का प्रयास किया तो जान से मारने की धमकी देने लगा। जिसके बाद आक्रोशित लोगों ने दारोगा की पिटाई कर गीडा पुलिस को सुपुर्द कर दिया था।युवती की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने दारोगा को जेल भेजा था।

क्रास एफआइआर दर्ज होने से दबाव में थी युवती

युवती से छेडख़ानी और अपहरण करने के आरोप में दारोगा के जेल जाने के बाद उसके स्वजन पीडि़त परिवार पर समझौता करने का दबाव बनाने लगे। बात न मानने पर गीडा पुलिस ने दारोगा की पत्नी की तहरीर पर युवती उसकी बहन, माता-पिता और भाई के खिलाफ हत्या की कोशिश, बंधक बनाने, बलवा और धमकी देने का केस दर्ज कर लिया। जिसके बाद से युवती और उसके परिवार के लोग सदमे में थे।आरोपित दारोगा व उसके साथी पूरे परिवार को जेल भेजवाने की धमकी दे रहे थे।10 दिन पहले मां और छोटी बहन के साथ युवती अपना बयान दर्ज कराने सीओ कैंपियरगंज के कार्यालय में आयी थी।

Edited By: Satish Chand Shukla