गोरखपुर, जेएनएन। उत्‍तर प्रदेश का पहला मॉडर्न क्वारंटाइन सेंटर सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल में बनाया गया है। यह सेंटर विश्व स्वास्थ्य संगठन और स्वास्थ्य मंत्रालय के मानकों पर तैयार किया गया है। इस सेंटर में दो लोगों के बीच पर्याप्त दूरी, अलग-अलग शौचालय, सभी के लिए अलग-अलग बाल्टी-मग, पौष्टिक भोजन और प्रतिदिन चिकित्सकीय परीक्षण की व्यवस्था की गई है।

100 लोगों के रहने की व्यवस्था

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट गौरव सिंह सोगरवाल ने बताया कि गोरखनाथ क्षेत्र के सरस्वती शिशु मंदिर को विश्व स्वास्थ्य संगठन और स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गाइड लाइन के अनुरुप क्वारंटाइन सेंटर के रूप में बनाया गया है। यह प्रदेश का पहला मॉडर्न क्वारंटाइन सेटर है। इस सेंटर में जरूरत की सभी चीजों का ख्याल रखा गया है। सेंटर में 100 लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है। अभी यहां आठ लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। शुक्रवार से यह सेंटर पूरी तरह क्रियाशील हो जाएगा। यहां कर्मचारियों की शिफ्टवार ड्यूटी भी लगाई गई है जिससे कि यहां रुकने वाले लोगों को किसी प्रकार की समस्या न हो।

56 नमूनों की हुई जांच, सभी निगेटिव

जासं, गोरखपुर: मंगलवार को सिद्धार्थनगर व बुधवार को देवरिया की एक-एक रिपोर्ट संदिग्ध आई थी। दोबारा जांच में दोनों रिपोर्ट निगेटिव आ गई है। बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज स्थित क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र (आरएमआरसी) में बुधवार की देर रात तक कुल 56 नमूनों की जांच की गई और सभी  निगेटिव मिलीं।

इन जिलों के लोगों की हुई जांच

आरएमआरसी के मीडिया प्रभारी डॉ. अशोक पांडेय ने बताया कि बुधवार को हुई जांचों में मेडिकल कॉलेज गोरखपुर के 16, बस्ती के 17, महराजगंज के 10, एयरफोर्स का एक, सिद्धार्थनगर के छह, अयोध्या के चार, देवरिया व कुशीनगर के एक-एक नमूने शामिल थे।

कोरोना योद्धाओं का डाइट चार्ट तैयार

कोरोना वार्ड में ड्यूटी करने वाले डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टॉफ का डाइट (खान-पान) चार्ट तैयार किया गया है, इसमें प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले पदार्थों को शामिल किया गया है। जिला अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एके सिंह ने बताया कि सुबह के समय तुलसी, अदरक व नींबू वाली चाय व एक गिलास हल्दी वाला गुनगुना दूध दिया जाएगा। साथ ही एक अखरोट, एक कटोरी भुना मखाना व दो बादाम दिए जाएंगे। आठ से नौ बजे के बीच नाश्ते में दो पराठा, एक कटोरी मौसमी सब्जी, दलिया, पोहा, एक कटोरी संतरा आदि फल, अंकुरित मूंग व चना तथा भुनी मूंगफली दी जाएगी। 11 बजे तुलसी, लौंग, काली मिर्च, नींबू वाली एक कप चाय व दोपहर में एक से दो बजे के बीच भोजन दिया जाएगा जिसमें दो रोटी, दाल, सलाद, हरी सब्जी, एक कटोरी दही, मट्ठा या रायता शामिल होगा। शाम को चार बजे एक कप चाय, पांच से छह के बजे के बीच भुना लावा, भुना चना, भुना मखाना व एक कटोरी हलवा दिया जाएगा। रात का भोजन भी दोपहर की तरह होगा। सोते समय एक गिलास दूध हल्दी डालकर दिया जाएगा।  

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस