गोरखपुर, जेएनएन। लोकसभा चुनाव के मतगणना की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। बस्ती में वो¨टग से पहले राजनीतिक पंडित त्रिकोणीय लड़ाई का दावा कर रहे थे। लेकिन मतदान के बाद मामला बदल गया। सभी ने अपने सुर बदल लिए और लड़ाई भाजपा और गठबंधन के बीच आमने-सामने की लड़ाई हुई, इस बात पर बल दे रहे हैं। दूसरी ओर सबसे दिलचस्प चर्चा सोशल मीडिया पर चल रही है। पार्टी के नेता और पदाधिकारी के साथ समर्थक भी लगे हुए हैं। हर कोई जीतने का दावा कर रहा है। इसको लेकर ़फेसबुक पर वो¨टग कराई जा रही है। इसमें सवाल पूछा जा रहा कि आपने तीनों में से किसको वोट दिया। अधिकांश जवाब पार्टी से सीधे तौर पर जुड़े लोगों के आ रहे है लेकिन कुछ ऐसे लोग भी चर्चा में कूद रहे हैं जिनके पास अपने सवाल और तर्क हैं। कोई बूथवार तो कोई विधानसभा क्षेत्र स्तर पर समीक्षा कर रहा है। प्रमुख दलों के प्रत्याशी समर्थकों से भले तपाक से बोल दे रहे हैं कि सब ठीक है हम इतने लाख से जीत रहे है, लेकिन मन में डर इस बात का है कि यदि उनका समीकरण और अनुमान ठीक से नहीं सधा होगा तो परिणाम विपरीत भी आ सकता है। सरकार भले मुद्दों को लेकर चुनाव में उतरी थी लेकिन बस्ती का चुनाव आखिरी दौर में बहुत हद तक जातिगत समीकरण को साधते हुए आगे बढ़ा है। हालांकि कि मतदान पूर्व और अब भी लोग सोशल मीडिया पर सीधे जातिगत पोस्ट करने से कतरा रहे हैं। इस बार के लोकसभा चुनाव में तीनों प्रमुख दलों से दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। इस चुनाव का परिणाम इनके वर्तमान के साथ भविष्य का भी निर्धारण करेगा। हालांकि की सोशल मीडिया पर मतदाता फिलहाल मूकदर्शक हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप