गोरखपुर, जागरण संवाददाता। मनीष गुप्ता हत्याकांड के सभी आरोपितों के पकड़े जाने के बाद एसआइटी कानपुर अब साक्ष्य संकलन में जुटी है। गवाहों को होटल में बुलाकर क्राइम सीन रीक्रिएट किया जाएगा। इस दौरान होटल कर्मचारी भी मौजूद रहेंगे। टीम ने हत्याकांड से जुड़े सभी गवाहों के शहर छोड़ने पर रोक लगा दी है। टीम ने साफ तौर पर बता दिया है कि कभी भी बयान दर्ज करने के लिए बुलाया जा सकता है, ऐसे में शहर छोड़ने से पहले अनुमित लेनी होगी।

एसआइटी ने तेज की जांच

कानपुर के बर्रा नि‍वासी मनीष गुप्ता हत्याकांड के सभी आरोपित पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी के बाद एसआइटी कानपुर ने मामले की विवेचना तेज कर दी है। फोरेंसिक टीम की जांच में मिले साक्ष्य को विवेचना का हिस्सा बनाने के साथ घटना में किसकी क्या भूमिका रही एसआइटी अब यह तय करने में जुटी है। दशहरा में कानपुर गए कानपुर एसआइटी के प्रभारी अपर पुलिस आयुक्त आनंद प्रकाश तिवारी भी गोरखपुर आ रहे हैं। उसके बाद टीम आगे की रणनीति तय करने के साथ ही होटल पहुंचकर फिर से क्राइम सीन रीक्रिएट करेगी। संभावना जताई जा रही है कि इस दौरान घटना के समय मनीष गुप्ता के साथ कमरे में मौजूद रहे उसके दोस्त हरवीर, प्रदीप के अलावा होटल के कर्मचार भी मौजूद रहेंगे।

आरोपितों को रिमांड पर लेगी टीम

मनीष हत्याकांड के आरोपित छह पुलिसकर्मियों को एसआइटी कानपुर पुलिस रिमांड पर लेकर एक साथ पूछताछ कर सकती है।इसको लेकर एक सप्ताह से तैयारी चल रही है।मनीष को पुलिसकर्मियों ने डंडा, बेल्ट या बंदूक की बट से पीटा था एसआइटी यह जानने में जुटी है।

जेल में बढ़ाई गई आरोपितों की निगरानी

जिला कारागार के नेहरु बैरक में रखे गए हत्यारोपित पुलिसकर्मियों की निगरानी बढ़ा दी गई है।दो आदर्श बंदी रक्षकाें के अलावा जेल में लगे सीसी कैमरे से सबकी निगरानी हो रही है।

Edited By: Pradeep Srivastava