सिद्धार्थनगर, जागरण संवाददाता। सिद्धार्थनगर जिले में गर्भवती महिला की बिना किसी जांच के आपरेशन करना भारी पड़ गया। महिला को इंफेक्शन हो गया, जिसके कारण उसकी मौत हो गई। इलाज में लापरवाही को लेकर स्वजन व ग्रामीणों ने अस्पताल पर हंगामा काटा। जिसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। मृतका के पति की तहरीर पर पुलिस ने आरोपित के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत करते हुए जांच शुरू की गई।

यह है मामला

कठेला में अपना हास्पिटल एण्ड फिजियोथेरेपी एवं जच्चा बच्चा केंद्र संचालित है। पिछले महीने 24 अगस्त की रात ग्राम धोबहा के टोला निविहवा निवासी 27 वर्षीय फिजा बानो पत्नी शहबाज आलम जो गर्भवती थी, प्रसव पीड़ा के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां बिना किसी जांच के उसका ऑपरेशन कर किया गया, पुत्र रत्न की प्राप्ति तो हुई, पर महिला की हालत बिगड़ने लगी।

इसे भी पढ़ें- संतकबीर नगर में डिप्टी CM बृजेश पाठक का दिखा अलग अंदाज, सरकारी स्कूल के बच्चों के साथ खाया मिड-डे-मील

गलत इलाज के बाद भी अस्पताल में रोका

गलत इलाज की वजह से शरीर में इंफेक्शन फैल गया। उसे अस्पताल में ही रोके रखा, हालत नहीं सुधरी और एक सितंबर को डिस्टार्च कर दिया गया। स्वजन उन्हें लेकर जिला चिकित्सालय सिद्धार्थनगर ले गए। 16 सितंबर को मेडिकल कालेज लखनऊ रेफर कर दिया। जहां बीती रात उसकी मौत हो गई। शनिवार को स्वजन शव लेकर उक्त अस्पताल पहुंचे, बड़ी संख्या में ग्रामीण भी इनके साथ थे। जमकर हंगामा किया गया। पुलिस पहुंची तो मृतका के पति ने पूरी बात बताते हुए तहरीर दी। पुलिस के आश्वासन के बाद हंगामा समाप्त हुआ।

इसे भी पढ़ें, गोरखपुर पुलिस को चकमा देकर थाने से भागी चोरी की आरोपित किशोरी, कपड़े व गहने की दुकान पर हुई थी वारदात

क्या कहती है पुलिस

प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार सिंह ने कहा कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। अस्पताल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी गई है।

Edited By: Pragati Chand

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट