देवरिया: महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कालेज से संबद्ध जिला अस्पताल में मरीजों की दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पीआइसीयू में बिजली कटौती जारी है। जिससे गंभीर रूप से बीमार बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को पांच घंटे से अधिक विद्युत कटौती के चलते बीमार बच्चे गर्मी से परेशान रहे। वहीं पैथालाजी में वायल खत्म होने से जांच का कार्य ठप रहा। जिससे मरीजों की परेशानी बढ़ गई है।

बुखार डेस्क पर कोई दवा नहीं, सिर्फ डाक्टर तैनात

वायरल फीवर व बुखार के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए डीएम ने बुखार डेस्क बनाया। यहां 24 घंटे चलाने का निर्देश दिया। यहां बुखार जांचने के उपकरणों व दवाओं के साथ डाक्टर को तैनात किया गया। मौजूदा समय में यहां पल्स आक्सीमीटर, थर्मल स्कैनर नहीं है। दवाओं में पैरासीटामाल व एजीथ्रोमाइसीन भी नहीं है।

दो दिन से पैथालाजी में वायल खत्म होने जांच ठप

जिला अस्पताल की पैथालाजी में दो दिन से वायल नहीं होने से सीबीसी जांच ठप है। अस्पताल में भर्ती वायरल फीवर बुखार के मरीजों के लिए यह जांच आवश्यक है। भर्ती मरीजों के तीमारदार बाहर से जांच कराने को मजबूर हैं। मरीजों के स्वजनों का आरोप है कि प्रभारी के कक्ष में पूरे दिन ताला लटका रहता है। मरीजों की समस्या सुनने वाला भी कोई नहीं है।

मरीजों को कोई समस्या न हो इसका ध्यान रखा जा रहा है। पीआइसीयू में दवा की कमी नहीं है। मरीजों को बेहतर इलाज देने का पूरा प्रयास किया जा रहा है।

आनंद मोहन वर्मा, प्रधानाचार्य महर्षि देवरहा बाबा राजकीय मेडिकल कालेज

कोरोना का खतरा बरकरार

कोरोना संक्रमण जिले में कम जरूर हुआ है, लेकिन खतरा बरकरार है। इसे रोकने की दिशा में स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के बाद भी लोग कोविड नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। जिससे संक्रमण के विस्तार लेने का खतरा बढ़ गया है। रविवार को आइ कोरोना जांच रिपोर्ट में 2564 की रिपोर्ट निगेटिव रही। कोरोना से 220 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। कुल 20221 लोग पाजिटिव हो चुके हैं। 19997 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। फिलहाल सिर्फ चार सक्रिय केस हैं। सीएमओ डा. आलोक पांडेय ने कहा कि रविवार को एक भी रिपोर्ट पाजिटिव नहीं आई है, लेकिन कोरोना संक्रमण का खतरा अब भी बना हुआ है। लोग इसे समझ नहीं रहे हैं। कोरोना से बचाव व जागरूकता आवश्यक है। गांवों में आशा कार्यकर्ता व सीएचसी, पीएचसी पर डाक्टर व स्वास्थ्यकर्मी लोगों को जागरूक कर रहे हैं।

Edited By: Jagran