गोरखपुर, जेएनएन। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कल देर रात अपनी कर्मस्थली गोरखपुर में थे। उनकी मौजूदगी में गोरखनाथ मंदिर का माहौल हर्षोल्लास के चरम पर था। कृष्ण का बाल रूप धारण किए छोटे-छोटे बच्चों पर हर किसी की निगाहें टिक जा रही थीं। इस दौरान योगी आदित्यनाथ ने झूला झुलाकर कान्हा की आरती उतारी।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर शुक्रवार की अर्धरात्रि गोरखनाथ मंदिर में सोहर और भजनों की सुरमयी प्रस्तुति माहौल में आस्था और भक्ति का रंग घोल रही थी। इन आस्था भरे मोहक माहौल के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देर रात मंदिर पहुंचे और उन्होंने रात 12 बजे गर्भ गृह में भगवान श्रीकृष्ण की पूजा-अर्चना की। कृष्ण जन्म के बाद मुख्यमंत्री ने कान्हा को गर्भगृह से बाहर लाकर उन्हें झूले पर झुलाया। पूजन प्रक्रिया पूरी करने के बाद मुख्यमंत्री ने सभी श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की बधाई दी और मंगलकामना की। जन्मोत्सव कार्यक्रम इस बार मंदिर के दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में आयोजित था।

गर्भ गृह में कान्हा की पूजा प्रधान पुरोहित रामानुज त्रिपाठी ने संपन्न कराई। पूजन प्रक्रिया करीब आधे घंटे चली। उधर, माहौल को सांस्कृतिक रंग देने की जिम्मेदारी लोक गायक राकेश श्रीवास्तव और उनकी टीम ने संभाल रखी थी। 'नंद घर आनंद भयोÓ भजन से राकेश श्रीवास्तव ने भजनों की प्रस्तुति की शुरुआत की। उसके बाद विभा सिंह, नुपूर सरकारी, अवंतिका दुबे, अनीता सिंह, स्वीटी सिंह, अर्पिता सिंह ने इस सिलसिला को बखूबी आगे बढ़ाया। संदीप पांडेय ने अपने साथियों के साथ नृत्य नाटिका की प्रस्तुति से उपस्थित जनसमूह का मन मोह लिया।

वाराणसी की कलाकार उपासना की शिव स्त्रोत और कृष्ण लीला पर आधारित नृत्य नाटिका को खूब सराहना मिली। रीना सिंह व उनकी टीम और सनाया गुप्ता की भाव नृत्य और मनीष पांडेय का भोजपुरी भजन भी लोगों को खूब भाया। संचालन शिवेंद्र पांडेय ने किया। इस दौरान मेयर सीताराम जायसवाल, प्रधान पुजारी कमलनाथ, द्वारिका तिवारी, अरुणोश शाही, मोती लाल सिंह, दिव्य सिंह, विनय गौतम, दुर्गेश बजाज, अमित सिंह आदि मौजूद रहे।

शुरू हुआ अखंड हरि कीर्तन

जन्माष्टमी को लेकर गोरखनाथ मंदिर के राधा-कृष्ण मंदिर में अखंड हरि कीर्तन की शुरुआत हुई। कीर्तन की पूर्णाहुति शनिवार को होगी।

हर बच्चे में दिखी कान्हा की छवि

जन्माष्टमी के अवसर पर मंदिर में परंपरागत रूप से श्रीकृष्ण रूप सज्जा प्रतियोगिता आयोजित हुई। बड़ी संख्या में शहर के बच्चे अपने अभिभावकों संग गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। बाल कृष्ण के रूप में सजे हर बच्चे में कान्हा की छवि झलक रही रही थी और लोग उन्हें देखकर हर्षित हो रहे थे। प्रतियोगिता दो वर्ग में आयोजित हुई। जूनियर यानी कान्हा वर्ग में गौरी को पहला, ख्याति गुप्ता को दूसरा और हर्षित सागर को तीसरा स्थान मिला। नव्या, आदविक, अभय मिश्र, विद्यांश श्रीवास्तव, धात्री श्रीवास्तव व परि सांत्वना पुरस्कार से प्रोत्साहित किए गए। सीनियर यानी गोपाल वर्ग में रेयांश शर्मा पहले, अवनीश सिंह और कनिष्का हरि तीसरे स्थान पर रहीं।

शिवा मिश्र, प्राची बजाज, दृष्टि अग्रवाल, हृदयांश यादव, आराध्या सिंह, प्रत्युश श्रीवास्तव को सांत्वना पुरस्कार के लिए चुना गया। निणार्यक मंडल में अशोक महर्षि, रवींद्र रंगधर और सारिका श्रीवास्तव शामिल रहे। सभी विजेताओं को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने हाथों से पुरस्कृत किया। साथ ही प्रतिभागी बच्चों को प्रमाण पत्र देकर उनका उत्साह बढ़ाया।उनकी मोहक छवि सभी के दिल मेंं उतर रही थीं। सोहर और भजनों की सुरमयी प्रस्तुति माहौल में आस्था व भक्ति का रंग घोल रही थी।  

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप