देवरिया: रुद्रपुर उपनगर के मझना नाले के समीप स्थित एलबीआर पब्लिक स्कूल के प्रबंधक ने सोमवार की रात विद्यालय कक्ष में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मौके से सात पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें विद्यालय के प्रबंधन विवाद बताते हुए पूरी घटना के लिए पिता व भाई को जिम्मेदार ठहराया गया है। इस घटना के बाद परिवार में मातम छा गया। उधर पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट व सुसाइड नोट की जांच के बाद ही कुछ भी कहने की बात कह रही है।

कोतवाली क्षेत्र के मरकड़ी गांव के रहने वाले अमित कुमार यादव पिड़रा रोड पर नौ वर्ष से विद्यालय चलाते थे। स्वजन के अनुसार कोरोना काल के दौरान वे कर्ज से परेशान थे। वाहनों की किस्त नहीं जमा हो पा रही थी। सोमवार की रात विद्यालय परिसर में रहने वाले शिक्षक व अन्य लोग किसी शादी समारोह में चले गए। विद्यालय परिसर में प्रबंधक अमित ही थे, रात को लगभग 12 बजे जब शिक्षक आए तो अवाक रह गए। कक्ष का अंदर से फाटक बंद था। फाटक तोड़ कर अंदर गए तो वह फंदा लगाकर लटक रहे थे। प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र कुमार ने बताया कि सुसाइड नोट की जांच कराई जा रही है। जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। बेटी दे मुखाग्नि सुसाइड नोट में बेटी आराध्या द्वारा मुखाग्नि देने की बात कही गई है। सुसाइड नोट में अमित की तरफ से कहा गया है कि बेटी को वह अधिकारी बनाना चाहते थे, लेकिन ऐसा समय आ गया कि वह बीच में ही पत्नी व उनकी जान बेटी को छोड़ कर जा रहे हैं। ऐसे भाई व पिता किसी को न मिले। उसमें यह भी कहा गया है कि विद्यालय अगर ठीक-ठाक चलने लगे तो सभी का कर्ज चुकता कर दिया जाए।

Edited By: Jagran