गोरखपुर, जागरण संवाददाता : संतकबीर नगर जिले के धनघटा तहसील क्षेत्र में पिछले 24 घंटे में नदी का जलस्तर 10 सेमी बढ़ गया है। अब इस नदी का जलस्तर लाल निशान 79.350 मीटर के पास पहुंच गया है। इससे नदी के किनारे बसे गांवों के लोगों की चिंता बढ़ गई है। वहीं बंधे के पास बसे गांव के लोग अपना सामान लेकर गांव से पलायन करना शुरू कर दिए हैं। बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए उचित व्यवस्था करने में तहसील प्रशासन नाकाम साबित हुआ है। इसको लेकर बाढ़ पीड़‍ितों में आक्रोश है।

कई गांव सरयू नदी के पानी से घिरे

धनघटा तहसील क्षेत्र में तुर्कवलिया गांव के पास सरयू नदी खतरा निशान के पास पहुंच गई है। इसकी वजह से नदी के किनारे बसे गायघाट, करनपुर, कंचनपुर, सीयरकला, आगापुर, गुलहरिया, कुर्मियान, ढोलबजा, गुनवतिया, सरैया, खरैया सहित कई गांव सरयू नदी के पानी से घिरने लगे हैं। सीयरकला गांव के मुख्य मार्ग पर इस नदी का पानी बह रहा है। इससे आवागमन ठप हो गया है। वर्तमान में तहसील प्रशासन ने पानी से घिरे नौ गांवों में 14 नाव लगा दी है। नाव के सहारे लोग रोजमर्रा की जरूरत का सामान खरीदने के लिए गांव से बाहर आ-जा रहे हैं। लोगों का कहना है कि परिवार के सदस्यों का भरण-पोषण व पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था करना चुनौती बना हुआ है। तहसील प्रशासन के स्तर से फिलहाल कोई राहत सामग्री नहीं

मिली है।

जलस्‍तर की पल-पल हो रही निगरानी

धनघटा के तहसीलदार रत्नेश तिवारी ने कहा कि विशेषकर सरयू नदी के जलस्तर की पल-पल की निगरानी की जा रही है। कहीं से किसी को कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। बाढ़ चौकियों को सक्रिय कर दिया गया है। एसडीएम के साथ वह नियमित रूप से इसकी जांच कर रहे हैं।

बंधे के पास के गांवों में पहुंच गया पानी

ड्रेनेज खंड द्वितीय के सहायक अभियंता सतीश चंद्र ने कहा कि बंधे के पास बसे गांवों में सरयू नदी का पानी पहुंचा है। बंधे की सुरक्षा के लिए पूर्व में ही कई कार्य कराए गए थे, कुछ कार्य अब भी चल रहे हैं। बंधे सुरक्षित हैं।

Edited By: Rahul Srivastava