गोरखपुर, जेएनएन। राष्‍ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने कहा कि वर्तमान में संपूर्ण विश्‍व का नेतृत्‍व करने में भारत पूरी तरह से सक्षम है। विश्व कल्याण के लिए भारत के विचार अधिक प्रभावी हैं। लोग अब भारत की तरफ देख भी रहे हैं। शक्तिशाली देशों को लोग देख चुके हैं। इनसे किसी को कोई उम्‍मीद नहीं है।

कुशीनगर के बौद्ध भिक्षु से वैश्विक परिदृश्य में साझा किया विचार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने रविवार की रात देश के विभिन्न पंथों के प्रमुख संतों से वैश्विक परिदृश्य में भारत की भूमिका विषय पर अपने विचार साझा किया। भदंत ज्ञानेश्वर बुद्ध विहार कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय बौद्ध शोध संस्थान के पूर्व अध्यक्ष भंते महेंद्र भी उनसे आनलाइन जुड़े। संघ चालक ने कहा कि विश्व के दो शक्तिशाली देश अमेरिका एवं रूस ने सैन्य एवं आर्थिक महाशक्ति बनने के लिए संपूर्ण विश्व में अशांति पैदा की।

रूस, अमेरिका और चीन नहीं हैं सक्षम

सोवियत रूस समाजवाद के सिद्धांत से संपूर्ण विश्व को सुख एवं शांति देना चाहता था, लेकिन वह असफल रहा। अमेरिका आज विश्व का शक्तिशाली देश है जो अपने सैन्य व आर्थिक महाशक्ति से विश्व को सुख शांति नहीं दे पा रहा है। आतंकवाद को समाप्त करने एवं वर्चस्व स्थापित करने के लिए सैन्य कार्रवाई का सहारा ले रहा है। चीन ने साम्यवाद से विश्व को सुख शांति देने का प्रण किया था किंतु आर्थिक महाशक्ति बनने के बाद चीन विस्तारवादी सोच के कारण पड़ोसी देशों को परेशान कर रहा है। ऐसे में संपूर्ण विश्व की आशा की दृष्टि भारत की ओर है। भारत संपूर्ण विश्व को एक परिवार मानता है जबकि अन्य देश विश्व को बाजार मानते हैं।

विविधता में एकता सिर्फ भारत में

सर संघ चालक ने कहा कि भारत में जितनी विविधता है उतना कहीं नहीं है। इस विविधता से भारत में एकता स्थापित है। कार्यक्रम की प्रस्तावना सरकार्यवाह सुरेश राव भैया जी जोशी ने रखी। बौद्धिक गीत विश्व व्यापी ध्येय पथ पर राष्ट्र विजयी हो हमारा गाया गया। आभार एवं स्वागत अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख अनिरुद्ध देश पांडेय ने व्यक्त किया। जिला संघचालक डा. चंद्रशेखर सिंह, विभाग बौद्धिक शिक्षण प्रमुख सुरेश प्रसाद गुप्त, महाविद्यालयीन विद्यार्थी प्रमुख दिव्यांशु श्रीवास्तव, सुबोध, विशाल आदि उपस्थित रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021