गोरखपुर, जागरण संवाददाता। लगातार दो दिन हुई बारिश के बाद सोमवार को गोरखपुर-कसया मार्ग पर एम्स के पास सड़क धंस गई। राहगीरों की मुसीबत बढ़ गई है। लोक निर्माण विभाग ने धंसे हिस्से को ईंट रखकर घेर दिया है। जो रात में राहगीरों को नजर नहीं आ रहा है। न तो कोई लाल पट्टी लगाई गई है और न ही उसके आगे-पीछे सावधान रहने का बोर्ड ही लगाया गया है। हालांकि आंबेडकर चौक से हरिओम नगर आने वाली सड़क भी एक जगह धंस गई है, वहां लाल पट्टी लगाकर विभाग ने लोगों को सावधान किया है।

व‍िभाग ने कुछ नहीं क‍िया, दुर्घटना की आशंका

कसया मार्ग पर एम्स के सामने यह सड़क एक माह पूर्व भी धंसी थी। आनन-फानन में उसे ठीक कराया गया था। यह मार्ग पूरी रात चालू रहता है। बड़ी संख्या में लोग आते-जाते हैं। इस मार्ग पर एम्स व एयरपोर्ट होने से दिन में बड़ी भीड़ होती है। बावजूद सुरक्षा की दृष्टि से विभाग ने कुछ नहीं किया है। सड़क धंसने से वहां गड्ढा हो गया है और उसके नीचे बिछी सीवर लाइन का चैंबर ऊपर दिख रहा है। कोई भी व्यक्ति रात को गिरकर चोटिल हो सकता है। लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता केशव कुमार ने बताया कि मामला संज्ञान में है। सोमवार को इसकी मरम्मत कराई जाएगी।

31 घंटे बाद 21 गांव और 12 कालोनियों को मिली बिजली

खोराबार क्षेत्र के रामगढ़ फीडर से जुड़े 21 गांव और 12 कालोनियों के हजारों उपभोक्ताओं को रविवार को 31 घंटे बाद बिजली मिली। शुक्रवार की रात तकरीबन दो बजे रामगढ़ फीडर की लाइन पर पेड़ की डालियां टूटकर गिरने से आपूर्ति ठप हुई थी। अफसरों का कहना है कि आठ पेड़ों की डालियां गिरने से दिक्कत हुई। इन डालियों को काटने के लिए वन विभाग से अनुमति मांगी गई थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इस बीच शुक्रवार को हुई बारिश के बीच पेड़ की डालियां तार पर गिर गईं। रविवार सुबह तकरीबन नौ बजे आपूर्ति सामान्य हो सकी।

Edited By: Pradeep Srivastava