गोरखपुर, जेएनएन: सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्र-छात्राओं के लिए राहत भरी खबर है। बोर्ड ने स्पष्ट कर दिया है कि स्कूल खुलने के बाद ही प्रायोगिक परीक्षा कराई जाएगी। बोर्ड के इस संकेत के बाद दसवीं व बारहवीं की परीक्षा देने वाले छात्रों का संशय खत्म हो गया है। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक डा.संयम भारद्वाज ने देश के सभी स्कूलों के साथ हुए वेबिनार में यह भी संकेत दिया है कि परीक्षा पहले की तरह ही आफलाइन होगी। हां यह जरूर है कि परीक्षा मार्च में न होकर अप्रैल में हो सकती है। वेबिनार में बोर्ड द्वारा यह भी स्पष्ट कर दिया गया कि प्रायोगिक व सैद्धांतिक परीक्षा के पाठ्यक्रम जो पहले 30 फीसद कम किए गए थे वहीं रहेंगे, अब और कम नहीं होंगे।

बढ़ाई जा सकती है केंद्रों की संख्‍या
परीक्षा नियंत्रक डा.भारद्वाज ने यह भी स्पष्ट किया कि कोरोना के कारण बोर्ड परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाई जा सकती है। परीक्षा पिछले वर्ष की तरह ही संचालित होगी। स्वकेंद्र परीक्षा नहीं होगी। कोरोना के मद्देनजर एक कक्ष में सिर्फ बारह छात्र ही परीक्षा दे सकेंगे। इस बार बोर्ड की मंशा थी कि प्रायोगिक परीक्षा में भी केंद्र बनाए जाएं, लेकिन फिलहाल इस निर्णय को वापस ले लिया गया है। इस बार भी प्रायोगिक परीक्षा स्कूल में ही कराई जाएगी और परीक्षा लेने बाह्य परीक्षक आएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि बोर्ड परीक्षा की डेटशीट जब भी जारी होगी परीक्षार्थियों को परीक्षा की तैयारी का पर्याप्त समय मिलेगा। हाईस्कूल में 80 नंबर सैद्धांतिक पर और 20 आंतरिक मूल्यांकन पर मिलेगा।

वेबिनार के बाद दूर हो गया संशय
सीबीएसई के जिला समन्वयक अजीत दीक्षित ने कहा कि बोर्ड परीक्षा को लेकर छात्राें में जो भी संशय था वेबिनार के बाद दूर हो गया है। छात्रों को अब अपनी पढ़ाई पर पूरा ध्यान केंद्रित करना चाहिए। डेटशीट जारी होने के बाद परीक्षा की तैयारी के लिए पूरा मौका मिलेगा। बोर्ड ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि वेबसाइट पर डाली जानी वाली सूचना को ही सही माना जाए।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021