गोरखपुर, जेएनएन : देवरिया जिले में पंचायत चुनावों को लेकर गांवों में सरगर्मी बढ़ गई है। ग्राम प्रधान पद के सबसे ज्यादा दावेदार मैदान में नजर आ रहे हैं। बहुत से दावेदार आरक्षण का गणित गड़बड़ाने से मैदान से बाहर हो गए हैं। उनके स्थान पर कई नए चेहरे मैदान में आ गए हैं। इस बार पंचायत चुनाव के दौरान कुछ रोचक तस्वीरें भी देखने को मिल रही है। अपनो के सामने अपने ताल ठोक रहे हैं।

कई गांवों में अपनों के सामने अपने ही ठोक रहे हैं ताल

इसबार के पंचायत चुनाव में रिश्तों की भी जोर आजमाइश होगी। कहीं भाई-भाई आमने-सामने हैं, कही देवरानी-जेठानी आमने सामने दिख रही हैं। इसे रिश्तों में पड़ी दरार कहे या राजनीति में भाग्य आजमाने का खुला मंच। कुछ ऐसी तस्वीरें कपरवार, पैना आदि गांवों में पंचायत चुनाव के समर में देखने को मिल रही हैं। पंचायत चुनाव के नामांकन पत्र खरीदने का क्रम जोर पकड़ लिया है। दावेदार प्रस्तुत किए जाने वाले कागजातों को तैयार करने में जुट गए हैं। मतदाताओं से संपर्क अभियान ने गति पकड़ ली है। चौक-चौराहों पर चाय, पान की दुकानों पर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। प्रधान, बीडीसी के पदों पर कई जगहों पर अपनों के सामने लोग ताल ठोक रहे हैं। रिश्तों, संबंधों का मायने बदल गया है। ऐसे दावेदारों को लेकर मतदाओं में चर्चा भी हो रही है।

चुनाव में युवा चेहरे

पंचायत चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। प्रचार, संपर्क अभियान का दौर जोर पकड़ लिया है। ग्राम प्रधान, जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत के चुनाव में युवा चेहरे अधिक दिख रहे हैं। देवरिया जिले के बरहज, भलुवनी विकास खंड में चुनाव मैदान की तस्वीर देखे तो उसमें युवा चेहरों की संख्या अधिक हैं। चुनावी समर में उतरे युवा विगत वर्ष से सक्रिय रहे हैं। उनकी प्रचार टोली में भी युवा अधिक नजर आ रहे हैं। इसबार के चुनाव में युवाओं की भूमिका महत्वपूर्ण होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप