गोरखपुर, जेएनएन। जगतगुरु स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा कि यह वर्ष कलंक का वर्ष है, देश में जहां भी धब्बे लगे हैं मिटाने का वर्ष है। तब तक हम विश्राम नहीं करेंगे, जब तक पाक अधिकृत कश्मीर नहीं ले लेंगे। गुलाम कश्मीर लेने पर ही अखंड भारत का सपना पूरा होगा।

जगद्गुरु देवरिया जिले के जिगिना मिश्र में जय मां दुर्गा न्यास सेवा समिति द्वारा आयोजित सात दिवसीय श्रीमदभागवत कथा ज्ञान यज्ञ में कथा सुना रहे थे। उन्होंने कहा कि ब्रह्मा जी को भगवान के अवतरित होने पर शंका हो गई। गोकुल के ग्वाल बाल अपने गायों के चराने गए तो ब्रह्म जी ने ग्वालो के साथ गायों को चुरा लिया। जब यह प्रसंग बलराम जी कृष्ण के सामने लाए तो श्रीकृष्‍ण भगवान ने कहा कि ब्रह्मा जी परीक्षा के लिए ले गए है।

गो माता के दर्शन से मिलता है हजारों तीर्थों का फल

उन्‍होंने गाय की महिमा का वर्णन करते हुए कहा कि एक गाय का सुबह दर्शन करने से 99 हजार तीर्थ स्थलों के दर्शन का फल मिलता है। इसलिए लोगों को सुबह के समय गाय का दर्शन जरूर करना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि वर्तमान में गायों की स्थिति ठीक नहीं है। गाय पालन करने वाले लोग उसी गाय को कसाई के हाथ बेच देते हैं और दोष कसाई को देते हैं। सबसे बड़े दोषी वे हैं जिन्‍होंने अपने गायों को बेच दिया या फिर उसे छोड़ दिया है। ऐसे लोग ही पाप के भागी बन रहे हैं। यकीन न हो तो ऐसे लोगों के घर जाकर देखें तो पता चलेगा कि कितनी अशांति में जी रहे हैं। उन्‍होंने कथा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि ब्रज के लोगो पर जब अन्याय किया जा रहा था तब गोपियां 32 अक्षरों का कात्यायनी व्रत का जाप करते हुए स्नान करने गई थीं। भगवान भूमिगत होकर आतंकवादी से लड़ते थे। कंस का पूरा समाज आतंकवादी था। कन्या की रक्षा पिता और भाई नही कर पाता तो स्वयं भगवान कन्या की रक्षा करते है ।

इस दौरान भक्ति वाटिका स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर के पीठाधीश्वर स्वामी राजनारायणाचार्य, आरके यादव, सुभाष तिवारी, कृष्णकान्त, मोहनलाल गुप्त आदि मौजूद रहे।

 

Posted By: Satish Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप