गोरखपुर, जागरण संवाददाता : आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास एवं भूमि पूजन कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आगमन को देखते हुए जिलाधिकारी विजय किरण आनंद ने ग्राम पंचायत पिपरी एवं तरकुलहा में तैयारियों का जायजा लिया। यहां करीब 52 एकड़ भूमि पर आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना होनी है। जिलाधिकारी ने कार्यक्रम स्थल एवं हेलीपैड के लिए संभावित स्थान का जायजा लिया।

तीन हेलीपैड बनाने के लिए देखा उचित स्‍थान

जिलाधिकारी ने राष्ट्रपति के आगमन को देखते हुए तीन हेलीपैड बनाने के लिए उचित स्थान देखने को कहा। जमीन के कुछ हिस्सों में जलभराव देखकर उन्होंने वहां मिट्टी डालने का निर्देश दिया। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों ने जिलाधिकारी को बताया कि बाउंड्रीवाल एवं भूमिपूजन कार्यक्रम के लिए एस्टीमेट तैयार कर लिया गया है। हवाई मार्ग के साथ ही राष्ट्रपति को सड़क मार्ग से लाने के विकल्प पर भी विचार किया गया। बारिश का मौसम होने के कारण कार्यक्रम स्थल पर वाटरप्रूफ पंडाल लगाने की तैयारी है। गाड़‍ियों की पार्किंग के लिए भी जमीन देखी गई। निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी इंद्रजीत सिंह, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/एसडीएम सदर कुलदीप मीणा, राजस्व निरीक्षक घनश्याम शुक्ला आदि मौजूद रहे।

मिट्टी में फंसी सीडीओ की गाड़ी

आयुष विश्वविद्यालय के भूमि पूजन की तैयारी का जायजा लेने डीएम के साथ पहुंचे सीडीओ की गाड़ी मिट्टी में फंस गई। जिलाधिकारी निरीक्षण करते हुए अधिकारियों के साथ बगीचे में चले गए थे। पीछे से अधिकारियों की गाड़‍ियां भी ले जाई गईं। इसी दौरान मिट्टी में सीडीओ की गाड़ी फंस गई। सीडीओ डीएम के साथ वहां से रवाना हुए। बाद में उनकी गाड़ी निकाली गई।

किसानों को उद्यमिता का गुर सिखाएंगे विशेषज्ञ

कृषि को व्यावसायिकता से जोड़कर किसानों को उद्यमी बनाने के लिए दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय इंटरप्रेन्योरशिप एंड इन्क्यूबेशन सेल और यूजीसी ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट सेंटर सात दिन की आनलाइन कार्यशाला शुरू करने जा रहा है। एफपीओ यानी फार्मर प्रोड्यूसर आर्गेनाइजेशन विषय पर आयोजित कार्यशाला में किसानों को उद्यमिता का गुर सिखाने के लिए विवि ने देश भर के कृषि विशेषज्ञों को आमंत्रित किया है। कार्यशाला की अध्यक्षता कुलपति प्रो. राजेश कुमार सिंह करेंगे।

Edited By: Rahul Srivastava