गोरखपुर, जेएनएन। पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए राहत भरी खबर है। आनंदविहार (दिल्ली) के बाद रेलवे बोर्ड ने गोरखपुर से मुंबई के बीच भी हमसफर एक्सप्रेस चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। पश्चिम रेलवे मुंबई को प्रस्ताव तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। संबंधित अधिकारियों ने पूर्वोत्तर रेलवे सहित अन्य जोनल कार्यालयों से संपर्क साधते हुए मार्ग, ठहराव और समय सारिणी को लेकर मंथन शुरू कर दिया है।

जौनपुर होकर चलेगी ट्रेन, सदर सांसद रवि किशन ने मंत्रालय के सामने रखी थी मांग

प्रस्ताव तैयार होने के बाद बोर्ड की हरी झंडी मिलते ही ट्रेन का संचालन शुरू हो जाएगा। जानकारों के अनुसार फिलहाल इस ट्रेन को गोरखपुर-जौनपुर के रास्ते चलाने की योजना है। ठहराव कम होंगे। शुरुआत में यह ट्रेन सप्ताह में एक या दो दिन ही चलेगी। यात्रियों के रुझान को देखते हुए फेरे बढ़ाए जाएंगे। हमसफर की रेक में वातानुकूलित तृतीय श्रेणी के ही कोच ही लगाए जाते हैं। हालांकि, बीच में लोगों की सहूलियत को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने शयनयान श्रेणी के कोच लगाने की भी छूट दे दी है।

दरअसल, सदर सांसद रवि किशन शुक्ल गोरखपुर और पूर्वांचल के लोगों की सहूलियत के लिए रेल मंत्रालय से लगातार गोरखपुर से मुंबई के बीच एसी ट्रेन चलाने की मांग करते आ रहे हैं। 29 दिसंबर 2020 को भी उन्होंने मंत्रालय को पत्र लिखा था। सांसद की मांग को देखते हुए मंत्रालय ने प्रस्ताव तैयार करने के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिया है। सांसद ने यात्री सुविधाओं के तहत रेलमंत्री पीयूष गोयल से कई और भी मांगें की हैं।

रेलमंत्री से सदर सांसद की प्रमुख मांगें

गोरखपुर से नई दिल्ली के बीच वंदे भारत ट्रेन चलाई जाए।

गोरखपुर से जगन्नाथ पुरी तक सीधी ट्रेन।

गोरखपुर से जोधपुर के लिए एक्सप्रेस ट्रेन चलाई जाए।

तीन दिन चलने वाली दून एक्सप्रेस को रोजाना किया जाए।

गोरखपुर-पुणे एक्सप्रेस का संचालन प्रत्येक दिन किया जाए।

गोरखपुर के रास्ते पाटलिपुत्र से दिल्ली तक राजधानी चलाई जाए।

गोरखपुर जंक्शन से छपरा जंक्शन तक मेमू ट्रेन चलाई जाए।

गोरखपुर से लखनऊ के बीच डबल डेकर ट्रेन।

गोरखपुर से चलने वाली ट्रेनों में जनरल कोच बढ़ाए जाए।

चौरीचौरा एक्सप्रेस के रनिंग टाइम को कम किया जाए। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप