जागरण संवाददाता, गोरखपुर : मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुकेश रस्तोगी को जान से मारने की धमकी देने एवं कार्यालय का सामान फेंकने वाला ठेकदार फरार हो गया है। उसकी गिरफ्तारी के लिए कोतवाली पुलिस ने कई जगह दबिश दी, लेकिन वह नहीं मिला। उसका एक साथी हिरासत में लिया गया है। गुरुवार को डॉ. मुकेश ने जिलाधिकारी से मिलकर घटना की जानकारी दी व अपना पक्ष रखा। उधर, सफाई ठेकेदार ने भी मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी पर गंभीर आरोप लगाए।

शिवांग कंस्ट्रक्शन के संतोष दुबे ने बुधवार को मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुकेश के कार्यालय में उनसे बदसलूकी की और धमकी दी थी। आरोप है कि ठेकेदार ने कार्यालय में रखी फाइलें फाड़ दी। अधिकारी की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने आरोपित ठेकदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। गौरतलब है कि शिवांग कंस्ट्रक्शन के पास महेवा मंडी की सफाई का जिम्मा है। फर्म की तरफ से 15 सफाई कर्मचारियों की आपूर्ति की जाती है। मंडी समिति सफाई के लिए नगर निगम को 1.85 लाख रुपये प्रतिमाह देती है। मंडी समिति ने सफाई में गड़बड़ी को लेकर नगर निगम से शिकायत की थी। जांच में शिकायत सही पाए जाने पर निगम प्रशासन ने ठेकेदार के भुगतान में कटौती की थी, जिससे ठेकेदार नाराज था। कोतवाली इंस्पेक्टर घनश्याम तिवारी ने कहा कि आरोपित ठेकेदार की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी की जा रही है। उधर, ठेकेदार संतोष दुबे ने मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी पर गंभीर आरोप लगाया। कहा कि अधिकारी महीनों से रुके बिल के भुगतान के लिए 25 फीसद कमीशन मांग रहे थे। हालांकि ठेकदार इस संबंध में कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सका।

Posted By: Jagran