गोरखपुर, जेएनएन। शहर के विकास की रूपरेखा तय करने वाले गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) की ओर से विकसित गौतम विहार विस्तार कॉलोनी के हालात नर्क सरीखे हैं। कहने को यह कॉलोनी सुनियोजित तरीके से बसाई गई है लेकिन हालात बेतरतीब बसी किसी अवैध कॉलोनी से भी बदतर हैं। यहां खाली पड़े प्लॉटों में नाले का गंदा पानी वर्ष भर भरा रहता है। जिससे लोगों के मकान की नींव कमजोर हो ही रही है, कॉलोनीवासी गंभीर बीमारियों की जद में जीने को मजबूर भी हैं।

जीडीए उपाध्‍यक्ष के आवास के नजदीक है कालोनी

जीडीए उपाध्यक्ष के आवास के नजदीक बसी इस कॉलोनी में बरसात के दिनों में स्थिति काफी खराब हो जाती है। वर्तमान समय में भी यहां सड़क पर गंदा पानी लगा रहता है। एचआइजी द्वितीय एक एवं सात के बीच प्लॉट कई सालों से खाली पड़े हैं। नाला टूटने से वहां का गंदा पानी खाली प्लॉटों में दो से तीन फीट तक भरा है। काफी दिनों से ठहरे होने के कारण पानी सड़ चुका है। इस कॉलोनी में स्ट्रीट लाइट भी फ्यूज हो चुकी है, जिससे सड़क पर अंधेरा रहता है।

नाले में ठहरा रहता है पानी

गौतम विहार विस्तार, वसुंधरा एंक्लेव एक, दो, तीन सहित जीडीए की कई कॉलोनियों का पानी निकालने के लिए बने नाले में प्रवाह ही नहीं है। इस नाले को देवरिया बाईपास के किनारे से गुजरे बड़े नाले में जोड़ा गया था लेकिन वाणिज्यकर कार्यालय के पास से पानी आगे नहीं बढ़ता। नाले में पानी ठहरा हुआ है, आए दिन गंदा पानी उल्टी दिशा में आता है। ओवर फ्लो होने से तारामंडल के पिछले हिस्से में भी गंदा पानी जमा है। बड़ा नाला बंद होने से विभिन्न कॉलोनियों से निकलने वाली छोटी नालियों में भी पानी पूरी तरह ठहरा रहता है, जिसमें से दुर्गंध उठती है।

क्‍या कहते हैं कालोनीवासी

विजय मल्‍ल का कहना है कि जीडीए की विकसित कॉलोनी में मकान बनवाकर पछता रहे हैं। गंदा पानी जमा होने से मकान की नींव कमजोर हो रही है, बीमारी का खतरा भी बना रहता है। राधिका सिंह का कहना है कि इस कॉलोनी में नालियां योजनाबद्ध तरीके से नहीं बनाई गई हैं, जिधर पानी  बहना है, ढलान उसके विपरीत है। खाली प्लॉट में पानी भरा होने से बाहर निकलना मुश्किल होता है। यहां कभी साफ-सफाई भी नहीं होती।

ये है इनका सरकारी बयान

जीडीए के मुख्‍य अभियंता संजय सिंह का कहना है कि कॉलोनी की साफ-सफाई कराई गई थी। यदि समस्या है तो वहां सफाई कराकर पानी की निकासी सुनिश्चित कराएंगे।

Posted By: Satish Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस